प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

26 July 2010

'वो' कहते हैं

'वो' कहते हैं,
मोहब्बत की बातें न किया करो
काफिरों को न,इस राह का मुसाफिर कहा करो
वो काफ़िर हैं- जिन्होंने दिल लगा लिया अपनी मर्ज़ी से,
न ये सोचा- कि महबूब का क्या मज़हब औ जात क्या है,
वो कहते हैं कि दफ़न कर देंगे
इस दास्तान ए इश्क को मगर
इतना भी नहीं जानते कि
जज्बात कभी मरते नहीं हैं.
तुम दफ़न कर दोगे,या जलादोगे उनके बदन
इतना याद रखना कि रूह कभी मिटती नहीं है।

-----(खाप पंचायतों द्वारा प्रेमी युगलों कि हत्या किये जाने पर)

20 July 2010

मोहब्बत कोई चीज़ नहीं…

न मोहब्बत कोई चीज़ है,
न मोहब्बत की बात करना,
ये वो ज़ख्म है जो,
जीते जी दिल को चीर देता है
न हँसना कभी,न रोने की बात करना
भूले हुए को न कभी तुम याद करना
ये जज्बातों की बात नहीं,
तन्हाई की सच्चाई है
उजाड़ गुलशन में न बहारों की आस करना.

17 July 2010

मैं स्वार्थी हूँ!!

लोग कहते हैं

तुम स्वार्थी हो

मैं कहता हूँ

ाँ!

हाँ!! मैं स्वार्थी हूँ

स्वार्थी तो

ऊपर वाला भी है

स्वार्थ उसका भी है

मनोरंजन पाने का

वो हँसता है!

शायद रोता भी होगा!

इंसानी कठपुतलियों को

सृष्टि के रंगमंच पर

अपनी भूमिका निभाते देखकर;

तो मैं क्या चीज़ हूँ-

एक अदना सा मानव!

मैं स्वार्थी हूँ!!

क्योंकि स्वार्थ

मुझे प्रेरणा देता है

नए आविष्कार करने की

कुछ नया सोचने की

ताकि मैं पा सकूँ

वो मुकाम

जिसकी मुझे तलाश थी !

13 July 2010

मेरे घर के सामने

कुछ मुर्गियां

खेलती हैं

आपस में

एक कतार में

एक साथ चलती हैं

और

पास के पानी से भरे गड्ढे में

लगाती हैं डुबकियाँ

वो काली हैं

कुछ सफ़ेद

और कुछ भूरी भी हैं

पर रंगभेद से बे परवाह

इंसानी धार्मिक और नस्लवादी

सोच से परे

वो लडती नहीं

बल्कि इठलाती हैं

अपने आत्म अनुशासन पर।

Popular Posts

+Get Now!