प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

27 May 2011

फिर आया तूफ़ान

फिर आया तूफ़ान
सांय सांय करती
तेज हवा
के  साथ
गिरते  उखड़ते
पेड़
मानो
नष्ट हो रहा हो
धरती का
नख शिख सौंदर्य !

आँखों में चुभती
उड़ती धूल
के  साथ
सब कुछ
अस्त व्यस्त
कुछ पल को
ठहरा सा जीवन
धीमी पड़ती रफ्तार

और -
तूफ़ान के
निकल जाने के बाद
फिर वही दोहराव
फिर वही रफ्तार
कुछ पल ठहरी सोच
कुछ पल का पश्चाताप
तूफ़ान के बाद की
बारिश में
कहीं बह जाता है .

हर बार की तरह
मैं 
समझना नहीं चाहता
इन तूफानों के
अर्थ को.

25 May 2011

अब नहीं....

अब नहीं वो जंगल जिनकी
बचपन में कहानी सुनते थे
दादी माँ की गोद में बच्चे
किस्से सुन सुन सोते थे

अब नहीं वो बब्बर शेर
जिसकी दहाडें डराती थीं
अंगूर खट्टे देख जो लोमड़ी
अक्सर ही हंसाती थी

नहीं रहीं पञ्चतंत्र की बातें
न गोदी है न लोरी है
पांच बरस में बस्ता भारी
जाने कैसी मजबूरी है ?

23 May 2011

एक नया दौर

एक नया दौर
शुरू होगा
आज से

कोई
सीना ताने
छूएगा
नए आसमां को
कोई
आ गिरेगा ज़मीं पर
और कोई
त्रिशंकु बना
ताकेगा
कभी ऊपर
कभी नीचे

एक नया दौर
शुरू होगा
आज से

आत्ममंथन का
नयी अपेक्षाओं का
नए लक्ष्यों का
नयी सोच का

होगा सब कुछ नया
उनके लिए
जिन्होंने
छू लिया आसमान
और जो
ज़मीन पर
अब भी हैं खड़े

एक नया दौर
शुरू होगा
आज से

परिणाम आ चुका है;
परिणाम आने  वाला है

कुछ राहत पा गये
और कुछ की
धडकनें
होती जा रही हैं तेज
सब की
बस एक सोच
क्या हमने किया था 
और  क्या हम को
मिलने वाला है

आज  से
एक नया दौर
शुरू होने वाला है

21 May 2011

क्षणिका

कभी कभी गलती से 
मैं भी देख लेता हूँ 
कुछ सपने
इस उम्मीद के साथ 
कभी तो सच होंगे.
 

Popular Posts

+Get Now!