प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

28 March 2012

कभी कभी .........


कभी कभी
लगता है
जैसे
अपने जाल मे फंसा कर
भूख वक़्त
कर रहा हो शिकार
भावनाओं का
और कभी कभी
ऐसा भी लगता है
जैसे
बुढ़ाती भावनाएँ
आत्महंता बन कर
खुद को फंसा रही हैं
वक़्त के फंदे में
अंत सुनिश्चित है
आज नहीं तो कल।

26 March 2012

'बीयर' है कि मानती नहीं

 मेरे एक बहुत ही अज़ीज़ पूर्व सहकर्मी और मित्र जो मेरे फेसबुक मित्र भी हैं ,आज उन्होने 'बीयर' पर अपना एक स्टेटस दिया है ("The First Beer Of Every Person's Life was not Bought by their Own Money........")

उनके इस स्टेटस को पढ़ कर जो कुछ मन मे आया वो टाइप होता चला गया और अब आपके सामने इस रूप मे प्रस्तुत है -------

कोई खुद पीता है
कोई पिलाता है
कोई खुद झूमता है
कोई झूमाता है
कभी खुद के पैसों से
कभी यारों के करम पे
न जाने कौन से नशे मे
किस नतीजे की तलाश मे
बेढब उजालों मे
या अँधेरों की आस मे
कभी खुद लुटता है
कभी खुद को लुटाता है
इस नशे से
शराब से
कैसा ये नाता है
समझ नहीं आता है 

है अजीब सी राह
कश्मकश से भरी
जिसके हर मोड पर
कांटे हैं फूल नहीं
जो अँधेरों से शुरू होती है
अँधेरों पर ही खतम 
ढाती है सितम
बेगुनाहों पर मगर
भरी बोतल को अक्ल
कभी आती नहीं
'बीयर' है कि मानती नहीं।

24 March 2012

रूप

तुम से कहा था न
मिलना मुझे
अपने उसी रूप मे
जो तुम्हारा है
पर अफसोस
मैं देख पा रहा हूँ
वही रूप
जिसे तुम
देखते हो
रोज़
आईने के सामने
वो रूप नहीं
भ्रम है
मुखौटा है
जो
काला है
कभी गोरा है
जिसकी कल्पना
कभी
चित्र बन जाती है
और कभी कविता
पर अगर
देख सको
कभी 
अपना असली रूप  
तो करा देना
पहचान
मुझे भी
मेरे असली रूप की
जिसकी मैं 
तलाश मे हूँ ।

21 March 2012

कभी बड़ी मत होना

आज फिर उसे देखा
रोज़ की तरह
आज भी 
वो खेल रही थी
अपने घर के बाहर

मैं उसे रोज़ देखता हूँ
कभी कभी छेड्ता हूँ 
और वो जब दौड़ती है
'अंकल' को मारने के लिये
उन पलों का आनंद
ताज़ा रहता है
जेहन मे
काफी समय तक

उसका नटखटपन
उसकी तुतलाहट
उसकी खीझ और
खुशी 
काफी है
किसी को भी
मोहने के लिए

वो छुटकी
दोस्त है मेरी
हर बार
मैं
उससे यही कहता हूँ-
कभी बड़ी मत होना
और वो
मेरी आँखों मे
अपनी नासमझ
आँखें डाल
मेरी गोद मे
इठलाती हुई 
झूमती है
अपनी मस्ती मे 
जैसे कह रही हो 
मुझे ये सब
नहीं पता ।

(काल्पनिक)

Popular Posts

+Get Now!