प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

16 December 2020

Shravasti Trip Photographs (30/11/2019) Part V














IMAGES COPYRIGHT-YASHWANT MATHUR©

15 December 2020

आम आदमी अब सिर्फ रोता है.....

टाटा-बिरला थे पहले 
अब अंबानी- अडानी होता है 
पहले जो थोड़ा हँसता था 
आम आदमी अब सिर्फ रोता है। 

हल छोड़ सड़क पर निकल किसान 
माँग रहा समर्थन और सम्मान 
लेकिन बहुतों की नज़रों में 
वो माओवादी होता है। 

रोजगार के सपने देख देख कर 
परीक्षा शुल्क चुकाने वाला 
उस युवा की आँखों में देखो 
जो निजीकरण को ढोता है। 

महँगाई के इस स्वर्ण काल में 
बजट नहीं न बचत कोई 
सरकारी उद्यम सभी बेच कर 
कैसा विकास ही होता है?

आम आदमी अब सिर्फ रोता है। 

-यशवन्त माथुर ©
15122020 

14 December 2020

Shravasti Trip Photographs (30/11/2019) Part IV


















IMAGES COPYRIGHT-YASHWANT MATHUR©

05 December 2020

भूमि पुत्र है वो

वो 
जो खेतों में हल चला कर 
गतिमान करता है 
जीवन के चक्र को 

वो 
जो अपने पसीने की हर बूंद से 
सींचता है 
अपने भीतर के सब्र को 

वो 
जिसके होंठों की मुस्कुराहट 
उपजाती है 
हमारे कल की खुशियों को 

वो 
जिसके खेतों की कपास के धागे 
सूत बन कर ढल जाते हैं 
रंग बिरंगी पोशाकों में 

वो 
जिसे फिर भी 
मयस्सर होती है 
सिर्फ गुमनामी 

वो 
जो 
सबको 
सबका हक दे कर भी 
अपने हक के लिये 
राजधानी की सड़कों पर 
गिरते-पड़ते 
शैतानी पत्थरों के वार से 
बचते बचाते 
शहीद होकर 
कंक्रीट की सड़कों पर 
अपने खून से 
बना देता है 
प्रश्नचिह्न 

वो 
कोई और नहीं 
धरती के अंक से लग कर 
बिना कोई भेद किये 
सबकी एकता का सूत्र है वो 
भूमि पुत्र है वो।  

-यशवन्त माथुर ©
05122020 

Popular Posts

+Get Now!