प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

12 April 2018

यही पूजा है तो ......

यही पूजा है कि जो आसिफा तुम्हारे साथ हुआ ?
यही पूजा है कि जो निर्भया तुम्हारे साथ हुआ ?

यही पूजा है कि जो भजन यहाँ पर गाए जाएँ ?
यही पूजा है कि जो सारे सपने बिखराए जाएँ ?

यही पूजा है तो देवता करें अब वास कहाँ पर ?
यही पूजा है तो नवरात्रों के हों उपवास कहाँ पर ?

यही पूजा है तो 'आदि शक्ति' किसे कहोगे ?
यही पूजा है तो 'माँ' की  भक्ति किसे कहोगे ?

यही पूजा है तो 'धर्म' पर प्रश्न चिह्न क्यों लगाते हो ?
यही पूजा है तो जय-जयकारे क्यों लगाते हो ?

यही पूजा है  कि समझ लो पूजा मन से जाता है 
यही पूजा है कि कोई धर्म  बैर नहीं सिखाता है । 

यही पूजा है कि हर नारी को अधिकार और मान दो 
उसकी देह और उसके मन को उसका उचित सम्मान दो। 


-यश ©
12/04/2018

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

+Get Now!