प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

30 December 2020

मैं नहीं कवि.....

मैं नहीं कवि 
न ही कविता को ही कह पाता हूँ 
बस जो भी मन में आता है 
वो ही लिखता जाता हूँ। 

है नहीं भान न ही ज्ञान 
रस छंद अलंकारों का
परिचय बस थोड़ा ही है 
काव्य के प्रकारों का। 

बस थोड़ा जो कुछ सहेजा समेटा 
और जो कुछ है देखा समझा
शब्दों की डोर में वो ही
थोड़ा पिरोता जाता हूँ । 

मैं नहीं कवि 
न ही कविता को ही कह पाता हूँ 
मन की कोर से जो निकलती
वो बात बताता जाता हूँ ।

-यशवन्त माथुर ©
23122020

24 December 2020

कि मौत आने को है....

हर ग़म जाने को है कि मौत आने को है,
चुटकी भर खुशियाँ धूल में मिल जाने को हैं।

बेइंतिहा शिकायतों के वजूद पर मेरा सबर,
पछता रहा कि जो बीता वो कल आने को है।

धोखा इस बात का था कि उम्मीदें साहिल पर थीं, 
मैं  घिसटता ही रहा  कि साँसें टूट जाने को हैं।  

ठहर जा रे वक़्त! और बीत कर क्या होगा?
जो तू करने को था कर ही जाने को है। 

-यशवन्त माथुर ©
24122020 

22 December 2020

Shravasti Trip Photographs (30/11/2019) Part VI



























(IMAGES COPYRIGHT YASHWANT MATHUR©)

20 December 2020

कुछ लोग-53

अपने स्वार्थ में 
पर्दे के पीछे रह कर 
दूसरों के काम बिगाड़कर 
संतुष्ट हो जाने वाले... 
और प्रत्यक्ष होकर 
हितैषी जैसा दिखने वाले 
दोस्त के नकाब में 
दुश्मनी निभाने वाले 
कुछ लोग
आस पास रह कर 
जिसे समझते हैं 
भेद 
वह सिर्फ सुई होता है 
जो अपनी चुभन से
एक दिन  
बिखेर कर रख देता है 
उनका सारा सच 
और फिर 
कुछ नहीं बचता 
हर तरफ फैली हुई 
कालिख के सिवा। 

-यशवन्त माथुर ©
20122020

[कुछ लोग शृंखला की अन्य पोस्ट्स यहाँ क्लिक कर के देख सकते हैं]

16 December 2020

Shravasti Trip Photographs (30/11/2019) Part V














IMAGES COPYRIGHT-YASHWANT MATHUR©

15 December 2020

आम आदमी अब सिर्फ रोता है.....

टाटा-बिरला थे पहले 
अब अंबानी- अडानी होता है 
पहले जो थोड़ा हँसता था 
आम आदमी अब सिर्फ रोता है। 

हल छोड़ सड़क पर निकल किसान 
माँग रहा समर्थन और सम्मान 
लेकिन बहुतों की नज़रों में 
वो माओवादी होता है। 

रोजगार के सपने देख देख कर 
परीक्षा शुल्क चुकाने वाला 
उस युवा की आँखों में देखो 
जो निजीकरण को ढोता है। 

महँगाई के इस स्वर्ण काल में 
बजट नहीं न बचत कोई 
सरकारी उद्यम सभी बेच कर 
कैसा विकास ही होता है?

आम आदमी अब सिर्फ रोता है। 

-यशवन्त माथुर ©
15122020 

14 December 2020

Shravasti Trip Photographs (30/11/2019) Part IV


















IMAGES COPYRIGHT-YASHWANT MATHUR©