प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

04 March 2021

वो दिन लौट के आएंगे......

बोल  निराशा के, कभी तो मुस्कुराएंगे।  
जो बीत चुके दिन, कभी तो लौट के आएंगे।  

चलता रहेगा समय का पहिया, 
होगी रात तो दिन भी होगा।  
माना कि मावस है कई दिनों की, 
फिर अपने शवाब पे पूरा चाँद भी होगा। 

आज काँटे हैं, कल इन्हीं में फूल खिल जाएंगे। 
ये कुछ पल की ही बात है, वो दिन लौट के आएंगे।

-यशवन्त माथुर©
04032021

27 February 2021

हो उठता है......

क्यों दिल कभी यूं बेचैन हो उठता है,
रात ख्वाबों में छोड़ सुबह में खो उठता है। 

ये उजला फलक तुम्हारी रूह की तरह है,
तकता है एकटक तमन्ना छोड़ उठता है।

मेरा विषय नहीं है प्रेम फिर भी क्यों इन दिनों, 
पलकों की कोर पे ओस का जमना हो उठता है। 

बन कर सैलाब गुजरती है जब मिलने को समंदर में,
लबों के ढाल का मुकद्दर जवां हो उठता है।

जा रहा है वसंत मिलने को जेठ की दोपहरी से,
मन की देहरी को तपन का एहसास हो उठता है।

न था जो शायर और न ही होगा कभी,
बेमौसम ही शब्दों का वो पतझड़ हो उठता है।

-यशवन्त माथुर©
27022021

21 February 2021

धर्म

'धारयति इति धर्मः'- 
जिसे धारण किया जाए 
वही धर्म है 
अच्छे कर्म करना ही 
जीवन का मर्म है 
लेकिन; 
ये शब्द 
और उनके वास्तविक अर्थ 
सदियों पहले 
खुद ही कहने के बाद 
अब हम भूलते जा रहे हैं 
भटकते जा रहे हैं, 
कई टुकड़ों में 
बँटते जा रहे हैं 
शायद इसलिए 
कि परस्पर विश्वास की 
मजबूत जड़ें 
पल-पल बहाए जा रहे 
झूठ के मट्ठे को सोख कर 
जर्जर करती जा रही हैं 
सृष्टि के आरंभ से 
गगन चूमते 
हरे-भरे पेड़ को 
जिसमें पतझड़ आ तो गया है 
लेकिन 
पुनर्जीवन तभी होगा संभव 
जब प्रेम के जल में 
सच का कीटनाशक मिला कर 
हम शुरू कर देंगे सींचना 
अपने वर्तमान से 
भविष्य को। 

-यशवन्त माथुर ©
21022021

14 February 2021

क्या होता है प्रेम ?

वो 
जो निर्दयी समाज के ताने-बाने में 
बुरी तरह फँसकर 
पंचायतों के चक्रव्यूहों में उलझ कर 
बलि चढ़ जाता है 
खोखले उसूलों की 
तलवारों से कट कर.... ?

या वो 
जिसे तमाम अग्नि परीक्षाओं से 
गुज़ारकर भी 
ठुकरा दिया जाता है 
एकतरफा करार दे कर 
मजबूर किया जाता है 
एकाकी हो जाने को....?

या फिर वो 
जिसे 'खास' चश्मे से देखकर 
हम सब उतार देते हैं 
अपनी गोरी-काली 
और मोटी-पतली नज़रों से... ?

प्रश्न 
यूं तो बहुत से हैं 
लेकिन सार सबका सिर्फ यही 
कि आखिर क्या होता है प्रेम....?

-यशवन्त माथुर ©
08022021