प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

24 June 2024

सेलिब्रिटीज को जीने दो....

वो 
जो अपनी मेहनत से
पा लेते हैं
एक मुकाम
हमारे, आपके,सबके बीच
जो बन जाते हैं
'सेलिब्रिटीज' के रूप में
एक बड़ा नाम।
उन 
असाधारण लोगों का
एक जीवन
हम लोगों की तरह
साधारण भी होता है,
उनकी भी होती है
निजता और मर्यादा
हमारे, आपके घरों की तरह
उनके यहां भी
टंगे होते हैं
परदे
जिनके पार देखने की
कोशिश का
कोई कारण और हक 
हमें
तब तक नहीं
जब तक
उसका असर 
पड़ न रहा हो
देश-काल और,
आम जन मानस की 
आर्थिक-सामाजिक
परिस्थिति पर।

-यशवन्त माथुर© 
24 जून 2024

  एक निवेदन
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 


23 June 2024

कुछ लोग-57

[कुछ लोग शृंखला की सारी पोस्ट्स यहाँ क्लिक करके देखी जा सकती हैं]


अक्सर 
हमारे आस-पास के 
वातावरण में 
वास्तविक रिश्तों से 
इतर भी 
कुछ लोग 
बना लेते हैं 
एक रिश्ता 
अपनत्व का 
अंतरंगता का...... 
इसलिए नहीं 
कि वे 
महसूस करते हैं 
वैसा ही 
बल्कि, इसलिए 
कि 
वे जान सकें 
जाने-अनजाने राज़ 
जिनको 
अपने स्वार्थ में 
कर सकें प्रसारित 
कहीं और 
किसी और की 
नापाक फ़ितरतों को 
पहुंचाने के लिए 
अंजाम तक। 
भेड़ के आवरण में 
भेड़िया का प्रतिरूप 
ऐसे कुछ लोग
अगर जल्द ही नहीं आए 
पहचान में 
तो कोई नहीं रोक सकता
अनपेक्षित 
विध्वंस को।  

-यशवन्त माथुर© 
23 जून 2024
 एक निवेदन- 
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। 
आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 

मेरे अन्य ब्लॉग 


04 June 2024

लाइनमैन......

वो!
जो
नौतपा की 
झुलसाने वाली गर्मी में
चरम बिंदु को छूते
ताप के मान को
अपनी नियति जान कर
कंक्रीट के जंगलों में बसे
आधुनिक आदिमानवों की
विद्युत पूर्ति करने को
अपने अस्तित्व से खेलते हुए
अपशब्दों को झेलते हुए
चढ़ जाता है
लोहे के
ऊंचे दहकते खंबों पर
यह जानते हुए भी
कि यह गलती उसकी नहीं
बल्कि 
उन सभी की है
जो 
मानकों को
अतिक्रमित कर
आनंद लेते हैं
शीतल
वात अनुकूलन का।

वो!
जो
अतिवृष्टि
और घनघोर शीतलहर में 
पसीने से सराबोर होकर
उपभोक्ता के मान की 
सेवा करते हुए
झेलता है चीरहरण
अपने मान का
सम्मान का।

वो!
जो हर मौसम में
अपने कर्तव्यपथ पर
निलंबन और बर्खास्तगी की
तलवार की धार पर
सधे कदम रखकर
सिर्फ अपनी
सफल संविदा के लिए
रहता बेचैन है-

लाइनमैन है!
.
✓यशवन्त माथुर©,
31मई 2024

- एक निवेदन- 
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 

मेरे अन्य ब्लॉग 


05 May 2024

शब्द जो लिखे न गए.....


उभरे मन में लेकिन, 
समझे न गए
शब्द जो लिखे न गए। 

अंतस खुश हो या उदास हो,
भूख हो या प्यास हो,
ख्याल सांचों में ढले न गए,
शब्द जो लिखे न गए।

अधरों तक आकर भी, 
रूह को करीब पाकर भी, 
रहे अव्यक्त ही, कहे न गए, 
शब्द जो लिखे न गए। 

काल चक्र से हार कर,
उम्र के हर पड़ाव पर,
संकोच से उबरे न गए, 
शब्द जो लिखे न गए। 

अवचेतन कारा की कैद से, 
शमशान में मुक्ति पाकर,
राख होते अंग प्रत्यंग  की तरह, 
पंच तत्व में मिलते ही गए,
शब्द जो लिखे न गए। 


-यशवन्त माथुर© 
05 मई 2024 

  एक निवेदन- 
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 

मेरे अन्य ब्लॉग 


15 March 2024

हम सब सो रहे हैं....

लगता है
जैसे इस मतलबी दुनिया में
अपने भूत
और भविष्य को भूल कर
सिर्फ वर्तमान को ढो रहे हैं
गहरी नींद के आगोश में
हम सब सो रहे हैं।

नहीं मतलब इससे 
कि क्या हो रहा है-
क्या नहीं 
सिरहाने तकिये में दबे 
सपने खो रहे हैं 
गहरी नींद के आगोश में
हम सब सो रहे हैं।

यह और बात है 
कि दिन 
भले शवाब पर हो 
निहत्थे दरख्त भी 
हर सू  रो रहे हैं 
गहरी नींद के आगोश में
हम सब सो रहे हैं।

कहीं बेकारी-भूख 
औ मुफलिसी के 
इस अंधे दौर में 
बांधे आँखों पे पट्टी 
क्या नींव में बो रहे हैं?
गहरी नींद के आगोश में
हम सब सो रहे हैं।

-यशवन्त माथुर©
15 मार्च 2024

  एक निवेदन- 
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 

मेरे अन्य ब्लॉग 


02 March 2024

टैक्स पेयर कौन?

अक्सर हम पढ़ते-सुनते हैं कि टैक्स पेयर के पैसे से जो सुविधाएं सरकार आम जनता को देती है उनमें से अधिकांश बेवजह हैं। खासकर बात जब मुफ्त बिजली, राशन और अन्य सुविधाएं देने की आती है तब संभ्रांत वर्ग के अधिकांश लोग 'टैक्स पेयर के पैसे' का तर्क देने लगते हैं क्योंकि उनका मानना है कि देश के चुनिंदा अमीर लोग सरकार को टैक्स देते हैं जिसका बेजा लाभ सरकार मुफ्त सुविधाओं के रूप में आम जनता को देती है या राजनीतिक दल चुनावों के समय जनता को देने का वादा करते हैं।

आइए अब विचार करते हैं कि वास्तव में असल टैक्स पेयर है कौन? देश के चुनिंदा अमीर? या खुद आम जनता?

हम जानते हैं हमारे देश में दोहरी कर प्रणाली है जिसमे प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष दोनों तरह के करों के माध्यम से सरकार को आय होती है जिसे वह बजट आवंटन के माध्यम से लोक कल्याणकारी एवं आवश्यक मदों में खर्च करती है।

कोई भी  उद्योगपति अपने उद्योग के लिए पूंजी जुटाने से लेकर अपनी वस्तु या सेवा के उत्पादन एवं अंतिम व्यक्ति तक वितरण के प्रत्येक स्तर पर किए जाने वाले हर व्यय के साथ ही उस पर देय प्रत्येक कर को अंततः आम जनता से ही वसूल करता है।

इसे एक उदाहरण से समझते हैं। मान लीजिए कि आपने 5₹ की एक चॉकलेट खरीदी। अब उसके रैपर पर कीमत वाली जगह पर क्या लिखा मिलेगा?  जाहिर है वहां लिखा होगा- MRP Rs. 5 (Inclucive of all taxes) अर्थात उस चॉकलेट का ' अधिकतम खुदरा मूल्य 5₹ है जिसमे सभी तरह के कर यानी टैक्स शामिल हैं। (यहां यह भी बताता चलूं कि 5₹ की इस कीमत में टैक्स के साथ ही उस एक अदद को बनाने में लगने वाली सामग्री, बिजली, ढुलाई, मजदूरी, निर्माता से लेकर खुदरा विक्रेता के लाभ सहित कई अन्य तरह के व्यय भी शामिल रहते हैं।) मतलब साफ है कि अगर आपने 5₹ की भी कोई चीज खरीदी तो आपने सरकार को टैक्स दिया। और उस पर होने वाला प्रत्येक व्यय भी निर्माता ने हम यानी जनता से ही वसूल किया।

यही उदाहरण कम से कम और ज्यादा से ज्यादा कीमत की हर वस्तु और सेवा पर लागू होता है जिसे आम जनता खरीदती है।

अब खुद ही सोचिए कि जब वास्तविक टैक्स पेयर तो हम और आप यानी आम जनता है तो जनता के ही पैसे से जनता को दी जाने वाली मुफ्त या सब्सिडी वाली वस्तु या सेवा पर किसका हक पहला हुआ? देश की सारी जनता टैक्स पेयर हुई या नहीं?

तथाकथित 'टैक्स पेयर' का रोना रोने वालों को यह भी याद रखना चाहिए कि  जनता तो हर चीज पर टैक्स देती ही है, लेकिन जनता द्वारा अदा किए जाने वाले टैक्स की बचत पूंजीपति विभिन्न टैक्स सेविंग स्कीमों में निवेश करके करते हैं। यानी जनता द्वारा अदा किए गए पूरे टैक्स का पूरा लाभ जनता को कभी मिलता ही नहीं।

यशवन्त माथुर
2 मार्च 2024

एक निवेदन- 
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 

मेरे अन्य ब्लॉग 


11 February 2024

कहा नहीं जा सकता...

अनिश्चित जीवन 
कब थम जाए
कब
स्मृतियों के अवशेष 
दे जाए
कहा नहीं जा सकता।

कहा नहीं जा सकता
कि कब 
ये शब्द लिखती हुई उंगलियां
कांपने लगें
होठ थरथराने लगें
आंखें प्रिय को ढूंढने लगें
और सांसें
उखड़ने लगें।

कहा नहीं जा सकता
कि कब
सुबह एक पल में बदल जाए
सूर्योदय के साथ ही
सूर्यास्त भी 
दस्तक दे जाए।

कहा नहीं जा सकता
कि कब
अपनी धुरी पर घूमती धरती
किसी धूमकेतु से टकराए
और 
पल दर पल
बीतता हुआ
समय  पुनः भटक कर
अपना इतिहास दोहराए।

कहा नहीं जा सकता
कि 
इस यशपथ पर 
कुछ भी 
कभी भी
हो सकता है घटित
जो इसे बदल दे
और ले जाए
यक्ष प्रश्नों से भरे
किसी अदृश्य
एकांत पथ की ओर।

-यशवन्त माथुर©
11 फरवरी 2024
 
  एक निवेदन
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 

मेरे अन्य ब्लॉग 


04 February 2024

40 पार के पुरुष - 2

जिम्मेदारियों का बोझा ढोते 
40 पार के पुरुष
जीवन के 
तिलिस्मी रंगमंच पर
चाह कर भी नहीं निभा सकते
खुद का मन पसंद किरदार
वो तो बस
कठपुतली होते हैं
नाचते रहते हैं 
किसी और की 
थामी हुई डोर के सहारे
ढूंढते रहते हैं किनारे
करते रहते हैं
पुरजोर कोशिशें 
जानकर की हुई 
अनजान गलतियों के 
निशान मिटाने की।
40 पार के
कुछ पुरुषों की
पटकथा 
फूलों के सपनों
और कांटों की वास्तविकता 
को खुद में समेटे हुए
सिर्फ अनिश्चित ही होती है।

-यशवन्त माथुर© 
  एक निवेदन- 
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 

मेरे अन्य ब्लॉग 


01 February 2024

एक नई शुरुआत करें...

मुश्किल भूलना
बीता काल मगर
फिर चलने की 
बात करें

एक नई शुरुआत करें।

जीवन खुद में 
कठिन गणित
जिसका हल
हालात करें

एक नई शुरुआत करें।

सूर्योदय कर रहा 
प्रतीक्षा
उजास से
हर रात भरें।

एक नई शुरुआत करें।

-यशवन्त माथुर©

- एक निवेदन- 
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 

मेरे अन्य ब्लॉग 


+Get Now!