प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

24 June 2024

सेलिब्रिटीज को जीने दो....

वो 
जो अपनी मेहनत से
पा लेते हैं
एक मुकाम
हमारे, आपके,सबके बीच
जो बन जाते हैं
'सेलिब्रिटीज' के रूप में
एक बड़ा नाम।
उन 
असाधारण लोगों का
एक जीवन
हम लोगों की तरह
साधारण भी होता है,
उनकी भी होती है
निजता और मर्यादा
हमारे, आपके घरों की तरह
उनके यहां भी
टंगे होते हैं
परदे
जिनके पार देखने की
कोशिश का
कोई कारण और हक 
हमें
तब तक नहीं
जब तक
उसका असर 
पड़ न रहा हो
देश-काल और,
आम जन मानस की 
आर्थिक-सामाजिक
परिस्थिति पर।

-यशवन्त माथुर© 
24 जून 2024

  एक निवेदन
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 


23 June 2024

कुछ लोग-57

[कुछ लोग शृंखला की सारी पोस्ट्स यहाँ क्लिक करके देखी जा सकती हैं]


अक्सर 
हमारे आस-पास के 
वातावरण में 
वास्तविक रिश्तों से 
इतर भी 
कुछ लोग 
बना लेते हैं 
एक रिश्ता 
अपनत्व का 
अंतरंगता का...... 
इसलिए नहीं 
कि वे 
महसूस करते हैं 
वैसा ही 
बल्कि, इसलिए 
कि 
वे जान सकें 
जाने-अनजाने राज़ 
जिनको 
अपने स्वार्थ में 
कर सकें प्रसारित 
कहीं और 
किसी और की 
नापाक फ़ितरतों को 
पहुंचाने के लिए 
अंजाम तक। 
भेड़ के आवरण में 
भेड़िया का प्रतिरूप 
ऐसे कुछ लोग
अगर जल्द ही नहीं आए 
पहचान में 
तो कोई नहीं रोक सकता
अनपेक्षित 
विध्वंस को।  

-यशवन्त माथुर© 
23 जून 2024
 एक निवेदन- 
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। 
आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 

मेरे अन्य ब्लॉग 


04 June 2024

लाइनमैन......

वो!
जो
नौतपा की 
झुलसाने वाली गर्मी में
चरम बिंदु को छूते
ताप के मान को
अपनी नियति जान कर
कंक्रीट के जंगलों में बसे
आधुनिक आदिमानवों की
विद्युत पूर्ति करने को
अपने अस्तित्व से खेलते हुए
अपशब्दों को झेलते हुए
चढ़ जाता है
लोहे के
ऊंचे दहकते खंबों पर
यह जानते हुए भी
कि यह गलती उसकी नहीं
बल्कि 
उन सभी की है
जो 
मानकों को
अतिक्रमित कर
आनंद लेते हैं
शीतल
वात अनुकूलन का।

वो!
जो
अतिवृष्टि
और घनघोर शीतलहर में 
पसीने से सराबोर होकर
उपभोक्ता के मान की 
सेवा करते हुए
झेलता है चीरहरण
अपने मान का
सम्मान का।

वो!
जो हर मौसम में
अपने कर्तव्यपथ पर
निलंबन और बर्खास्तगी की
तलवार की धार पर
सधे कदम रखकर
सिर्फ अपनी
सफल संविदा के लिए
रहता बेचैन है-

लाइनमैन है!
.
✓यशवन्त माथुर©,
31मई 2024

- एक निवेदन- 
इस ब्लॉग पर कुछ विज्ञापन प्रदर्शित हो रहे हैं। आपके मात्र 1 या 2 क्लिक मुझे कुछ आर्थिक सहायता कर सकते हैं। 

मेरे अन्य ब्लॉग 


+Get Now!