प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

09 July 2010

न हम होंगे.......

न हम होंगे न हमारी बात होगी

हर तरफ पानी से घिरी आग होगी

होगी एक बेचैनी ?

आग पानी में मिल जाएगी

या फिर

पानी को ही जला कर

मिटटी में मिला जाएगी

दुनिया देखती रहेगी

खड़े हो कर तमाशा

न सुबह होगी न दोपहर

न फिर रात ही कभी आएगी।







No comments:

Post a Comment

Popular Posts

+Get Now!