प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

14 July 2017

गधे चाहिए

उन्हें इंसान नहीं
कुछ गधे चाहिए
जो उनकी ही देखें -सुनें
अकल के अंधे चाहिए ।

कोशिश  तो की कई बार
कि हट जाए आँखों से पट्टी
उन्हें सिर्फ एक दिखता है
बाकियों मे खोट चाहिए ।

ये ज़माना और है
वो ज़माना और था
अब तो हर काम में
कोल्हू के बैल चाहिए ।

यश ©

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

+Get Now!