प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

01 January 2020

ऐसी उम्मीद नए साल पर

जो जीते हैं गुरबत में
आए मुस्कान उनके चेहरों पर
ऐसी  उम्मीद नए साल पर।

फसल खूब हो खेतों में
हर किसान की झोली जाए भर
ऐसी  उम्मीद नए साल पर।

रहें शांत सीमाएं अपनी
यूं न प्रहरी जाएं मर
ऐसी उम्मीद नए साल पर।

रहे अनुकूल यह धरती अपनी
न ताप बने, न शीत लहर
ऐसी  उम्मीद नए साल पर।

सद्भाव बना रहे अपनों का
भाईचारे को न लगे नज़र
ऐसी  उम्मीद नए साल पर।

सूर्य ग्रहण हो-चंद्र ग्रहण हो
लगे ग्रहण न इंटरनेट पर
ऐसी  उम्मीद नए साल पर।

नव वर्ष 2020 की अनंत शुभकामनाएं। 

-यशवन्त माथुर


1 comment:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. बहुत अच्छी सामयिक प्रस्तुति
    नववर्ष मंगलमय हो आपका!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!