प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

14 October 2020

कुछ ऐसा भी होता है .....

समय के साथ 
चेहरे बदलते हैं
कभी-कभी 
बदलती हैं तकदीरें भी 
हाथों की लकीरें भी 
लेकिन कुछ 
ऐसा भी होता है 
जो अक्षुण्ण रहता है 
जिसके भीतर का शून्य 
शुरू से अंत तक
तमाम विरोधाभासों 
और बदलावों के बाद भी 
बिल्कुल निर्विकार 
और अचेतन होता है 
शायद उसी परिकल्पना की तरह 
जो रची गई होती है 
किसी साँचे में 
उसे ढालने से पहले। 

-यशवन्त माथुर ©
14102020 

7 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. भावपूर्ण रचना ..परिकल्पना भी शून्य नहीं रही, शून्य तो शायद उसके भी पूर्व है जब कोई कल्पना भी नहीं ...

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. बड़ी सारगर्भित बात कही है आपने यशवंत जी । हार्दिक अभिनंदन ।

    ReplyDelete
  4. प्रभावी अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  5. जो अक्षुण्ण रहता है
    जिसके भीतर का शून्य
    शुरू से अंत तक
    तमाम विरोधाभासों
    और बदलावों के बाद भी
    बिल्कुल निर्विकार
    और अचेतन होता है
    बहुत सुन्दर सार्थक सृजन
    वाह!!!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!