प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

06 January 2023

यह रात इतनी सुनसान क्यों है?


खामोशियों में मचा
घमासान क्यों है?
यह रात 
इतनी सुनसान क्यों है?

वो बच्चे कहां गए
जो गलियों में चहकते थे
वो लोग कहां गए
जो खा-पी के टहलते थे?
.
वो फूल कहां गए
जो क्यारियों में महकते थे
ओस की बूंदों में खिलकर
हवा में बहकते थे

यह सर्दी का असर है
या ज़माना ही बदल गया?
ऊपर की सफेदी
कालिख से अनजान क्यों है?
.
यह रात
इतनी सुनसान क्यों है?

-यशवन्त माथुर
05012023

2 comments:

  1. यह मौसमी असर है देखते देखते गुजर जाएगा

    ReplyDelete
  2. शानदार अभिव्यक्ति

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!