प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

11 September 2011

पानी आने पर....

शाम के वक़्त
जब आता है नलों मे पानी
हलचल सी दिखती है
हर तरफ
कहीं धुलने लगते हैं कपड़े
हाथों से
वॉशिंग मशीनों से
कहीं धुलती हैं कारें
प्यासे पौधों को
मिलने लगता है
नया जीवन
दिन की गर्मी से बेहोश
धरती पर
होने लगता है छिड़काव
सोंधी सोंधी सी महक
कराती है एहसास
होश मे आने का

होश मे आ जाती है धरती
पानी का छिड़काव पाकर
मगर मैं
अब भी बेहोश हूँ
क्योंकि
मेरे घर की छत पर लगी टंकी
ढुलकाती रहती है
अनमोल धार
पूरी भर जाने के बाद भी
नलों मे
पानी के आने से लेकर
चले जाने तक।

23 comments:

  1. paani amoolya hai isko brbaad nahi hone dena chahiye.apne man ke bhaavon ko achche se prastut kiya hai aapne.saarthak rachna.

    ReplyDelete
  2. पानी अनमोल है इसके बारे में बहुत ही खुबसूरत पंक्तियाँ .......

    ReplyDelete
  3. होश में आना ही होगा.सुंदरता से अपनी बात कही है.

    ReplyDelete
  4. सुन्दर संदेश सरल शब्दों में . मैं भी सोचती हूँ सभी बेहोश कैसे रहते है वो भी पानी के लिए .

    ReplyDelete
  5. बहुत कुछ कह दिया इन एहसासों की बारिश से ...

    ReplyDelete
  6. बहुत खुबसूरत अभिव्यक्ति .....

    ReplyDelete
  7. बहुत ही खुबसूरत एहसास....

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया । पानी अनमोल है ...

    ReplyDelete
  9. arey waah nal ke pani par itni achhi rachna...

    ReplyDelete
  10. जल है तो जीवन है।ये बात हमे याद रखनी है।
    सार्थक रचना।

    ReplyDelete
  11. वाह ...बहुत ही बढि़या ।

    ReplyDelete
  12. बिन पानी सब सून ! होश में आना ही होगा, पानी की हर बूंद कीमती है...

    ReplyDelete
  13. आप की अभिव्यक्ति ने 'जल है तो जहान है.'इस कथन को साकार रुप दे दिया....बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  14. माफ़ कीजिये मुझे कुछ मज़ा नहीं आया इस पोस्ट में .........आपके ब्लॉग के के लायक नहीं लगी ये पोस्ट|

    ReplyDelete
  15. बड़ी खूबसूरती से शब्द दिए...सुन्दर भाव..बधाई.

    ReplyDelete
  16. Yashwant jee आपको अग्रिम हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं. हमारी "मातृ भाषा" का दिन है तो आज से हम संकल्प करें की हम हमेशा इसकी मान रखेंगें...
    आप भी मेरे ब्लाग पर आये और मुझे अपने ब्लागर साथी बनने का मौका दे मुझे ज्वाइन करके या फालो करके आप निचे लिंक में क्लिक करके मेरे ब्लाग्स में पहुच जायेंगे जरुर आये और मेरे रचना पर अपने स्नेह जरुर दर्शाए..
    MADHUR VAANI कृपया यहाँ चटका लगाये
    BINDAAS_BAATEN कृपया यहाँ चटका लगाये
    MITRA-MADHUR कृपया यहाँ चटका लगाये

    ReplyDelete
  17. बिलकुल सहमत हूँ ..पानी तो अनमोल है ही ..... शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  18. अच्छा चित्रण किया...

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!