प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

10 September 2011

उड़ना चाहती हूँ

[कभी कभी कुछ चित्रों को देख कर बहुत कुछ मन मे आता है इस चित्र को देख कर जो मन मे आया वह प्रस्तुत है। यह चित्र अनुमति लेकर सुषमा आहुति जी की फेसबुक वॉल से लिया है] 

 
(1)
किसी आज़ाद पंछी की तरह
पंखों को फैला कर
मैं उड़ना चाहती हूँ
मुक्त आकाश मे।
(2)
समुंदर की लहरों की तरह
उछृंखल हो कर
वक़्त के प्रतिबिंब को
खुद मे समे कर
जीवन की नाव पर
हो कर सवार
मैं बढ़ना चाहती हूँ
खुद की तलाश मे।

31 comments:

  1. kab kahan se bhawnaaon ke jwaar uthen shabdon kee ungli thaam len ...kaun janta hai , bahut sundar

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर

    मैं बढना चाहती हूं
    खुद की तलाश में

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर ....

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर रचना ........ बेहतर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. बहुत खुबसूरत चित्र के उतनी ही सुन्दर पंक्तिया....

    ReplyDelete
  6. भावनाओं को शब्दों में बखूबी पिरोया है आपने....

    ReplyDelete
  7. मैं बढना चाहती हूं
    खुद की तलाश में..खूबसूरत मनोभावो की सुन्दर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  8. मन भवन प्रस्तुति ...कभी समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. मैं बढ़ना चाहती हूँ
    खुद की तलाश मे।
    बहुत सुन्दर.....

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  11. pankho ko faila sakun, mile khula aakaash |
    jivan - nouka me simat, khud ki karun talaash ||

    HINDI TYPE me JUST kuchh PROB hai

    ReplyDelete
  12. मैं बढ़ना चाहती हूँ
    खुद की तलाश मे।

    ....बहुत खूब !

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत और भावमयी प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  14. मैं बढ़ना चाहती हूँ
    खुद की तलाश मे।

    सरल लेकिन प्रभावी अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  15. खूबसूरत ख्वाहिश!
    आशीष
    --
    मैंगो शेक!!!

    ReplyDelete
  16. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  17. सुन्दर उड़ान काव्य की

    ReplyDelete
  18. समुंदर की लहरों की तरह
    उछृंखल हो कर
    वक़्त के प्रतिबिंब को
    खुद मे समेट कर
    जीवन की नाव पर
    हो कर सवार

    मैं बढना चाहती हूं
    खुद की तलाश में.....चित्र को खूबसूरती से शब्दों में अभिव्यक्त किया आपने

    ReplyDelete
  19. खुद की तलाश ......खूबसूरत प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर.चित्र को शब्द चित्र में कुशलता से ढाला है.

    ReplyDelete
  21. खुद की तलाश....
    वाह! सुन्दर अभिव्यक्ति...
    सादर...

    ReplyDelete
  22. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  23. बहुत बढ़िया रचना सर |
    मेरे भी ब्लॉग में पधारें |
    मेरी कविता

    ReplyDelete
  24. चित्र को देख बहुत सुन्दर भाव मन में आए हैं ..खूबसूरत क्षणिकाएँ

    ReplyDelete
  25. अच्छा है...........काफी बदलाव सा लगा आपके ब्लॉग पर .............परिवर्तन का स्वागत है|

    ReplyDelete
  26. बेहतरीन रचना.....चित्र चयन उम्दा है...

    ReplyDelete
  27. नदी थी में
    बहती थी चुपचाप
    सिर्फ बहने को
    जीवन मन बैठी थी
    शांत लहरों को
    तुमने छेड़ा जब
    कल कल करती
    आठ्खेलिया करने लगी
    जीवन्तता का आभास पा...
    चंचल हो गई,
    किनारे तोड़
    सभी कुछ भिगोने की जिद में
    उमड़-गुमड हिलारे लेने लगी
    पता नही कौन सा संगीत था ...
    थिरकने लगी

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर ....
    काश सच में पंख मिल जाते
    तो कितना अच्छा होता...
    :-)

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!