प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

09 October 2011

डगमगाते कदम

जब चलना सीखा था
बचपन मे
दादा दादी की
मम्मी की पापा की
उँगलियों को थाम कर
ज़मीन पर खड़े होना
और फिर चलना
कभी दीवार  का सहारा लेकर
चलने की कोशिश
अक्सर गिरना
गिर कर रोना
उठना, संभलना और चलना
डगमगाते कदमों को 
प्रेरणा मिल ही जाती थी
तालियों की
मुस्कुराहटों की
बल मिल ही जाता था
ज़मीन पर स्थिर करने को
नन्हें नन्हें कदमों को

वो बचपन का दौर था
ये जवानी का दौर है
बीतते जाते हर पल की
नयी कहानी का दौर है

कदम अब भी लड़खड़ाते हैं
डगमगाते हैं
चोटिल होते हैं संभलते हैं
चलते जाते हैं

डगमगाना ज़रूरी है
गिरना ज़रूरी है
गुरूर और सुरूर को
ज़मीन पर लाने के लिये
आत्ममंथन के लिये
परिवर्तन के लिये
ज़रूरी हैं
ये डगमगाते हुए से कदम! 

33 comments:

  1. सुंदर प्रस्तुति |
    बधाई |।

    ReplyDelete
  2. waah waah...
    wakai bahut hi jaroori hai girna aur sambhlkar uthna... har baar girne par ham kuch naya seekhte hain...
    "girte hain sahsavaar hi madaan-e-jung mei..."
    parantu wo bachpan ka girna to yaad nahi haam dadi k munh se bahut si baatein suni thi tab kee...

    ReplyDelete
  3. इसी का नाम ज़िंदगी ... आत्ममंथन ।

    ReplyDelete
  4. डगमगाना ज़रूरी है
    गिरना ज़रूरी है
    गुरूर और सुरूर को
    ज़मीन पर लाने के लिये
    आत्ममंथन के लिये
    परिवर्तन के लिये
    ... कितना गहन अध्ययन किया है - उम्र के इस मोड़ पर यदि यह हौसला और स्वीकृति है तो मंजिल बेख़ौफ़ होगी

    ReplyDelete
  5. गुरूर और सुरूर को
    ज़मीन पर लाने के लिये
    आत्ममंथन के लिये
    परिवर्तन के लिये
    गिरना ज़रूरी है...
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति... गिरकर उठना, उठकर संभलना यही तो रीत है जिंदगी की...

    ReplyDelete
  6. बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति.

    ज़िन्दगी है तो डगमगाएगी
    कभी पुकारेगी
    कभी गुनगुनायेगी
    कभी रोयेगी
    कभी मुस्कराएगी
    मौत नहीं है जो खामोश हो जायेगी.

    ReplyDelete
  7. कविता की अंतिम पंक्तियाँ बेहद प्रभावशाली...और पीछे बजता संगीत मन मोहता है...

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रतीक ... संवेदनशील रचना ...
    आपने बहुत सुन्दर शब्दों में अपनी बात कही है। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  9. बहुत गहरी बात ...डगमगाने के बाद संभलने के सही मायने समझ आते हैं...

    ReplyDelete
  10. डगमगाना ज़रूरी है
    गिरना ज़रूरी है
    गुरूर और सुरूर को
    ज़मीन पर लाने के लिये
    आत्ममंथन के लिये
    परिवर्तन के लिये
    ज़रूरी हैं
    ये डगमगाते हुए से कदम! ...सही कहा यशवंत..बहुत गहन भाव लिये सुन्दर अभिव्य्क्ति..शुभकामनायं..

    ReplyDelete
  11. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  12. डगमगाना जरुरी है....
    वाह! सार्थक चिंतन... सक्षम अभिव्यक्ति....
    सुन्दर रचना पर बधाई के साथ
    एक सुमधुर गीत सुनवाने के लिये सादर आभार

    ReplyDelete
  13. डगमगा कर ही संतुलित हुआ जाता है..अतिसुन्दर.

    ReplyDelete
  14. बहुत गहरी बात कह दी………………गहन चिन्तन्।

    ReplyDelete
  15. बहुत ही बढि़या .. आभार ।

    ReplyDelete
  16. गहन चिंतन वाकई डगमगाना ज़रूरी है संभालने के लिए बहुत खूब ....
    समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  17. जीवन के टेढ़े-मेढे रास्तों पर चलने के लिये प्रेरित करती पंक्तियाँ !

    ReplyDelete
  18. चिन्तन लिये सुंदर अभिव्यक्ति जो पाठक को बाँधे रखती है ! बधाई !

    ReplyDelete
  19. बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  20. डगमगाने से ही सीखेंगे ....
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  21. आत्ममंथन के लिए परिवर्तन ज़रूरी है.....
    बहुत उम्दा रचना..

    ReplyDelete
  22. saarth...parents are real teacher

    ReplyDelete
  23. डगमगाते कदम ही आगे चल कर सुदृढ़ता का मार्ग प्रशस्त करते हैं!
    सुन्दर चिंतन!

    ReplyDelete
  24. बहुत अच्छा लिखा है .... अभिव्यक्ति सशक्त होती जा रही है ....शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  25. इस सोच को स्वीकार्य किया है कविता के माध्यम से यानि स्वयं ने भी स्वीकारा .....बहुत उम्दा सोच .

    ReplyDelete
  26. इसी लिए कहते है - जब तक ठोकर न लगे , जिंदगी के मायने समझ में नहीं आते ! बहुत सुन्दर , बधाई !

    ReplyDelete
  27. डगमगाना ज़रूरी है आत्ममंथन के लिये...परिवर्तन के लिये...!

    ReplyDelete
  28. सुन्दर भावों को दर्शाती एक सुन्दर पोस्ट|

    ReplyDelete
  29. परिवर्तन के लिये
    ज़रूरी हैं
    ये डगमगाते हुए से कदम

    सटीक

    ReplyDelete
  30. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  31. डगमगाना ज़रूरी है
    गिरना ज़रूरी है

    ye panktiyan jeevan ka marm keh jaati hai
    bahut badhiya likhte hain aap...

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  32. सच कहा है गिरने की बाद ही उत्जने का स्वाद आता है ...

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!