प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

19 August 2012

उजला-काला

वर्तमान के उजले
मुखौटे के भीतर
भविष्य का काला सच दबाए
कुछ लोग चलते जाते हैं
अपनी राह
पूरे होशो हवास मे
आत्मविश्वास मे

वो जानते हैं
भेड़चाल का परिणाम
झूठ का सच मे बदलना  है

समय के साथ
धुलना तो है ही
इस सफेदी को
पर तय है
कालिख का
प्रसाद चख कर
अंध भक्तों को 
बिना संभले गिरना है

क्योंकि मुखौटे की
अस्थायी ,स्थायी पहचान
देखने नहीं देती
खरोच पर उभरी
काली लकीर को। 


©यशवन्त माथुर©

26 comments:

  1. वर्तमान के उजले
    मुखौटे के भीतर
    भविष्य का काला सच दबाए
    कुछ लोग चलते जाते हैं
    अपनी राह
    पूरे होशो हवास मे
    आत्मविश्वास मे
    कब तक चलेगें ?
    जो आज तक नहीं हो सका है ,
    ज्यादा दिन तक उनके साथ भी नहीं चलेगा .... !!

    ReplyDelete
  2. क्योंकि मुखौटे की
    अस्थायी ,स्थायी पहचान
    देखने नहीं देती
    खरोच पर उभरी
    काली लकीर को। sacchi aur sateek baat kahi apne....

    ReplyDelete
  3. वर्तमान के उजले
    मुखौटे के भीतर
    भविष्य का काला सच दबाए
    कुछ लोग चलते जाते हैं
    अपनी राह
    पूरे होशो हवास मे
    आत्मविश्वास मे
    और यही भ्रष्ट लोग ही बर्बादी का कारण होते है...

    ReplyDelete
  4. गहन गंभीर रचना !
    एक ज़िद हो जैसे...गिरने की,
    जो चल देते हैं उजले अंधेरों की ओर...

    ReplyDelete
  5. गहन गंभीर रचना !
    एक ज़िद हो जैसे...गिरने की,
    जो चल देते हैं उजले अंधेरों की ओर...

    ReplyDelete
  6. गहन गंभीर रचना !
    एक ज़िद हो जैसे...गिरने की,
    जो चल देते हैं उजले अंधेरों की ओर...

    ReplyDelete
  7. "वर्तमान के उजले
    मुखौटे के भीतर
    भविष्य का काला सच दबाए
    कुछ लोग चलते जाते हैं
    अपनी राह
    पूरे होशो हवास मे
    आत्मविश्वास मे"
    और आखिर कोयलो की द्लाली में मुँह काला हो ही जाता है। सरोकार लिए सार्थक रचना।

    ReplyDelete
  8. क्योंकि मुखौटे की
    अस्थायी ,स्थायी पहचान
    देखने नहीं देती
    खरोच पर उभरी
    काली लकीर को।
    बडी गहरी बात कह दी।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर ..गहन रचना ..यशवन्त..ईद मुबारक..

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया रचना यशवंत....
    सोच में डाल देती हैं हर पंक्ति....
    बहुत सुन्दर.
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  11. शब्द रहित समर्थन
    सादर

    ReplyDelete
  12. मुखौटा नकली चढा के,करते है उपभोग
    जिस दिन उतर जागा,जान जायेगें लोग,,,,,

    RECENT POST ...: जिला अनुपपुर अपना,,,

    ReplyDelete
  13. वो जानते हैं
    भेड़चाल का परिणाम
    झूठ का सच मे बदलना है

    गहन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  14. बिल्कुल सही...गहरी अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  15. शायद अरसे बाद लौटा हूँ यशवंत!
    कविता में स्याह और सफ़ेद का ज़िक्र है और ब्लॉग में सुर्ख रंग भर दिया है!
    क्या बात है!
    आशीष
    --
    द टूरिस्ट!!!

    ReplyDelete
  16. जहाँ देखो वहीँ मुखौटे ...

    ReplyDelete
  17. गंभीर सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  18. वो जानते हैं
    भेड़चाल का परिणाम
    झूठ का सच मे बदलना है

    वाह...वाह...यह बात इस तरह से आपने कही है कि नई बात पैदा हुई है. बहुत खूब.

    ReplyDelete
  19. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 22/08/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  20. क्योंकि मुखौटे की
    अस्थायी ,स्थायी पहचान
    देखने नहीं देती
    खरोच पर उभरी
    काली लकीर को।

    बहुत ही खूबसूरत ....

    ReplyDelete
  21. क्योंकि मुखौटे की
    अस्थायी ,स्थायी पहचान
    देखने नहीं देती
    खरोच पर उभरी
    काली लकीर को।

    निःशब्द करते लाइन जहाँ भावनाओं से बड़े भाव हैं

    ReplyDelete
  22. बहुत गहराईयुक्त सुन्दर रचना ....

    ReplyDelete
  23. मुखोटे और भी बहुत कुछ छुपा लेते हैं चेहरे से ...
    गहरी बात कही है ...

    ReplyDelete
  24. गूढ़ बात को अनोखे में अंदाज में कह गए, वाह !!!!!!

    ReplyDelete
  25. gehari baat keh di apne yashwant bhai apne...

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!