प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

11 August 2012

त्रस्त है.....अभ्यस्त है

इन्हें शब्दों के बिखरे टुकड़े कहना सही रहेगा । अलग अलग समय पर अलग अलग मूड मे लिखे कुछ शब्दों को एक करने की कोशिश कर के यहाँ प्रकाशित कर रहा हूँ--

जनता त्रस्त है,पार्षद मस्त है
मेयर व्यस्त है,विधायक भ्रष्ट है
सांसद को कष्ट है ,मौसम भी पस्त है

कहीं गरज है, छींटे हैं ,बौछारें हैं
कहीं सूखा है,बाढ़ है ,कातिल फुहारें हैं

दरवाजों के बाहर , कहीं जूठन फिक रही है
कहीं कुलबुलाती आँतें,और आँखें सिसक रही हैं

कहीं सड़ता गेहूं -चावल, बह कर के बारिश में
फिर भी 'वो' समझते हैं,फैले हाथ मोबाइल की फरमाइश मे

अब क्या कहें कि गहराते अँधेरों में
सच का उजाला तो गहरी नींद में हसीन सपना है
सोच रहा हूँ परायों की रंगीन बस्ती में
किस मुखौटे के पीछे कौन सा चेहरा अपना है 

है यही सच कि कोई माने या न माने -
पस्त है कष्ट, और भ्रष्ट व्यस्त है
मस्त है खुद में 'आम',त्रस्त है ,अभ्यस्त है

©यशवन्त माथुर©

28 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. यूँ ही सोच के अधीन अस्त-पस्त रहे आप :)))

    ReplyDelete
  2. सच कहा...त्रस्त है...अभ्यस्त है...
    बहुत सुन्दर यशवंत....
    सस्नेह

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत जबरदस्त कटाक्ष शब्द शब्द जोड़ कर सुन्दर ईमारत कड़ी की आपने बहुत बधाई

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (12-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  5. आज मन प्रसन्न और दिल बाग़-बाग़ हो गया .... :)
    शब्द जोड़-जोड़ कर बुलंद किला तैयार हुआ है .... !!

    ReplyDelete
  6. सही कहा ..पस्त है कष्ट, और भ्रष्ट व्यस्त है..लेकिन रचना मस्त मस्त है ..यशवन्त.शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. विस्तृत विचारों को खूब्सूर्र्ती से पिरोया लिखते रहो अच्छा अच्छा .

    ReplyDelete
  8. अलग-अलग मूड में ही आपने तो क्या करारा कटाक्ष
    बना दिया है सर जी..
    शानदार...
    :-)

    ReplyDelete
  9. aapke vichaar teekhe, durust aur mast hai...

    ReplyDelete
  10. मन की स्वाभाविक अभ्व्यक्ति अपने उद्श्य में सफल है ...बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  11. वर्तमान परिप्रेक्ष्य में कही गई सच्ची बातें कहें या कटाक्ष

    ReplyDelete
  12. सटीक लिखा है आपने .बधाई

    ReplyDelete
  13. bilkul sahi kaha aapne Yashwant bhai.. ye sthiti dekhkar bahut hi dukh hota hai.. kya karen ki parivartan ho paaye.. ye bhi nahi soojhta...

    ReplyDelete
  14. है यही सच कि कोई माने या न माने -
    पस्त है कष्ट, और भ्रष्ट व्यस्त है
    मस्त है खुद में 'आम',त्रस्त है ,अभ्यस्त है..shat prtishat sacchi baat.....

    ReplyDelete
  15. यही तो देश का कष्ट है
    कि सारे नेता भ्रष्ट है
    राजनीती तो अब नष्ट है
    तब भी नेता स्वस्थ्य है
    वे घोटालो के अभ्यस्त है
    और आम जनता त्रस्त है
    सारे मौका परस्त है
    सब अपने में मस्त है
    वतन कि हालत पस्त है
    खुशहाली अस्त-व्यस्त है
    यही तो देश का कष्ट है
    कि अब सब ध्रतराष्ट्र है
    - मुकेश पाण्डेय 'चन्दन'

    ReplyDelete
  16. Bilkul sahi kaha yashwant ji :)

    ReplyDelete
  17. अब क्या कहें कि गहराते अँधेरों में
    सच का उजाला तो गहरी नींद में हसीन सपना है
    सोच रहा हूँ परायों की रंगीन बस्ती में
    किस मुखौटे के पीछे कौन सा चेहरा अपना है

    ...लाज़वाब ! सच का आईना दिखाती बहुत सटीक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  18. पूरे सिस्टम की तस्वीर आपने बना दी है. अनाज सड़ने दिया जाता है. मोबाइल दिया जाता है. किस कंपनी का मोबाइल दिया जाएगा? अब यही देखने वाली बात होगी कि घोटाला कितने का होगा.

    ReplyDelete
  19. शब्दों का खुबसूरत संयोजन ...

    ReplyDelete
  20. गेहूं सड़ते रहे गोदामों में , हाथो में मोबाइल ...
    वे मस्त रहे , जनता त्रस्त रहे !
    सभी क्षणिकाएं लाजवाब है !

    ReplyDelete
  21. वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  22. waah, uttam bhaav liye rachna, bilkul sahi kataksh.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!