प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

03 September 2012

गुरु-शिष्य (शिक्षक दिवस विशेष)

पान की दुकान पर
अक्सर दिखते हैं
गुरु शिष्य साथ में
सिगरेट के कश लगाते हुए

और कभी कभी
दिख जाते हैं
शराब के उस ठेके पर
शाम के समय
गलबहियाँ किये हुए

एक को लालच है
अंक पत्र में
बढ़े हुए प्राप्तांकों का
एक को लालच है
मुफ्त की इच्छापूर्ति का 

दोनों
आधुनिक हैं -

द्रोणाचार्य
आज कल
अंगूठा नहीं
कैश इन हैंड
मांगते हैं।


©यशवन्त माथुर©

26 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. न द्रोणाचार्य जी ही सही थे...न ही आज के ऐसे शिक्षक...!
    फिर भी.... अगर आदर्श शिक्षक और आदर्श छात्र आज कहीं एक साथ मिल जाएँ....तो दोनों ही पूजने योग्य होंगे... :-)

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया यशवंत....
    एकदम सच्ची बात कही....
    शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं ...

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  3. द्रोणाचार्य
    आज कल
    अंगूठा नहीं
    कैश इन हैंड
    मांगते हैं।
    ..सच आजकल कौन गुरु कौन शिष्य अंतर करना बहुत मुश्किल होता जा रहा है ..

    ReplyDelete
  4. badaltaa paripeksh ...
    katu satya ...

    ReplyDelete
  5. सत्य का अंश ज़रूर लिए है यह रचना .वैसे सखा होना बड़ी बात है अकसर शोषण होता है बहु -बिध छात्र छात्राओं का जिस पर अलग से एक शोध प्रबंध लिखा जा सकता है .यूनिवर्सिटी(सागर ) में पढता था ,मामा प्रोफ़ेसर थे ,घर में अकसर चर्चे चरखे सब रंग लिए होते -एक दिन सुना "जब भी कोई नै रिसर्च स्कोलर झा साहब (नाम काल्पनिक )के घर आती है मिसेज़ झा उसे अलग ले जाके समझातीं हैं ,क्या होने जा रहा है उसके साथ .होता भी वही था लेकिन पी.एचडी .मिल जाती थी हिंदी में .आधुनिक छोडो परम्परा में भी ऐसा क्या है ?जो पूज्य हो ?दुलारे बाज -पाइयों/वर्माओं /नामवरों के दरबार और दरबारी भी खूब देखे ,किशोरावस्था सब बांचती है हमने भी बांचा .
    ram ram bhai
    सोमवार, 3 सितम्बर 2012
    स्त्री -पुरुष दोनों के लिए ही ज़रूरी है हाइपरटेंशन को जानना
    स्त्री -पुरुष दोनों के लिए ही ज़रूरी है हाइपरटेंशन को जानना

    What both women and men need to know about hypertension

    सेंटर्स फार डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के एक अनुमान के अनुसार छ :करोड़ अस्सी लाख अमरीकी उच्च रक्त चाप या हाइपरटेंशन की गिरिफ्त में हैं और २० फीसद को इसका इल्म भी नहीं है .

    क्योंकि इलाज़ न मिलने पर (शिनाख्त या रोग निदान ही नहीं हुआ है तब इलाज़ कहाँ से हो )हाइपरटेंशन अनेक स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं खड़ी कर सकता है ,दिल और दिमाग के दौरे के खतरे के वजन को बढा सकता है .दबे पाँव आतीं हैं ये आफत बारास्ता हाइपरटेंशन इसीलिए इस मारक अवस्था (खुद में रोग नहीं है जो उस हाइपरटेंशन )को "सायलेंट किलर "कहा जाता है .

    माहिरों के अनुसार बिना लक्षणों के प्रगटीकरण के आप इस मारक रोग के साथ सालों साल बने रह सकतें हैं .इसीलिए इसकी(रक्त चाप की ) नियमित जांच करवाते रहना चाहिए .

    ReplyDelete
  6. सत्य का अंश ज़रूर लिए है यह रचना .वैसे सखा होना बड़ी बात है अकसर शोषण होता है बहु -बिध छात्र छात्राओं का जिस पर अलग से एक शोध प्रबंध लिखा जा सकता है .यूनिवर्सिटी(सागर ) में पढता था ,मामा प्रोफ़ेसर थे ,घर में अकसर चर्चे चरखे सब रंग लिए होते -एक दिन सुना "जब भी कोई नै रिसर्च स्कोलर झा साहब (नाम काल्पनिक )के घर आती है मिसेज़ झा उसे अलग ले जाके समझातीं हैं ,क्या होने जा रहा है उसके साथ .होता भी वही था लेकिन पी.एचडी .मिल जाती थी हिंदी में .आधुनिक छोडो परम्परा में भी ऐसा क्या है ?जो पूज्य हो ?दुलारे बाज -पाइयों/वर्माओं /नामवरों के दरबार और दरबारी भी खूब देखे ,किशोरावस्था सब बांचती है हमने भी बांचा .
    ram ram bhai
    सोमवार, 3 सितम्बर 2012
    स्त्री -पुरुष दोनों के लिए ही ज़रूरी है हाइपरटेंशन को जानना
    स्त्री -पुरुष दोनों के लिए ही ज़रूरी है हाइपरटेंशन को जानना

    What both women and men need to know about hypertension

    सेंटर्स फार डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के एक अनुमान के अनुसार छ :करोड़ अस्सी लाख अमरीकी उच्च रक्त चाप या हाइपरटेंशन की गिरिफ्त में हैं और २० फीसद को इसका इल्म भी नहीं है .

    क्योंकि इलाज़ न मिलने पर (शिनाख्त या रोग निदान ही नहीं हुआ है तब इलाज़ कहाँ से हो )हाइपरटेंशन अनेक स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं खड़ी कर सकता है ,दिल और दिमाग के दौरे के खतरे के वजन को बढा सकता है .दबे पाँव आतीं हैं ये आफत बारास्ता हाइपरटेंशन इसीलिए इस मारक अवस्था (खुद में रोग नहीं है जो उस हाइपरटेंशन )को "सायलेंट किलर "कहा जाता है .

    माहिरों के अनुसार बिना लक्षणों के प्रगटीकरण के आप इस मारक रोग के साथ सालों साल बने रह सकतें हैं .इसीलिए इसकी(रक्त चाप की ) नियमित जांच करवाते रहना चाहिए .

    ReplyDelete
  7. बहुत सही एवं बहुत ही बढ़िया... शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  8. बिलकुल सही... दोनों ही नहीं रहे पहले जैसे, बीच का रास्ता चुन लेते हैं, सरल, सस्ता...
    शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  9. पता नहीं इसमें मैं आपसे सहमत नहीं हूँ ... शिक्षक ऐसा नहीं कर सकता ..और जो ऐसा करता है वह शिक्षक नहीं व्यापारी है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैं आपकी असहमति का सम्मान करता हूँ मैम ,लेकिन जो खुद अपनी आँखों से देखा है बस उसे ही इस पोस्ट मे लिखा है।
      सारे गुरु सारे शिष्य एक जैसे नहीं होते यह मैं भी मानता हूँ।
      समय मिले तो पिछले वर्ष की इस पोस्ट को भी देखिएगा--http://jomeramankahe.blogspot.in/2011/09/blog-post_05.html

      Delete
  10. बहुत सुन्दर..शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं ... यशवंत..

    ReplyDelete
  11. एकांगी लेख . तस्वीर का दूसरा महत्वपूर्ण पक्ष भी उजागर करें अन्यथा सुखद सन्देश छुट जाता है जो आप जैसे विद्वान का दायित्व ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. सर! अगर मैं खुद को विद्वान मानने की गलती कभी नहीं करूंगा ,न ही जो मैंने लिखा वह हर जगह होता है,लेकिन जो लिखा है ,उसे प्रत्यक्ष देखा है और अक्सर देखता हूँ।

      Delete
  12. हम तो ऐसे देश में हैं जहाँ गुरूजी ही शराब पीने को देते हैं.. और मना करने को यहाँ की संस्कृति में बुरा माना जाता है.. भले ही लेकर मत पियो...

    ReplyDelete
  13. समय के साथ बहुत कुछ बदल गया है..... शिक्षा के क्षेत्र में भी यही हो रहा है....

    ReplyDelete
  14. समय के साथ बहुत कुछ बदल गया है..... शिक्षा के क्षेत्र में भी यही हो रहा है....

    ReplyDelete
  15. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 05/09/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  16. आज कल के जो हालात हैं ,उस पर सटीक सार्थक कटाक्ष !!

    ReplyDelete
  17. आज के समय का कटु सत्य है यह..जितनी भर्त्सना की जाये कम है..

    ReplyDelete
  18. sahi kaha...ab guru shishya ki defination hi bdal gayi h....

    ReplyDelete
  19. आजकल द्रोण और एकलव्य कैश में विश्वास रखते हैं :))

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!