प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

27 September 2012

'एक'-'दूसरा'

एक के पास -

बड़ी चार पहिया गाड़ी है
ड्राइवर है
आलीशान मकान है
जिसके कोने कोने से
संपन्नता का देसी घी
सबको ललचाता सा गिरता है

महंगा मोबाइल है
लैपटॉप है
दस उँगलियों के इशारे पर
नाचती
ग्लोबल दुनिया है
जिसके चारों ओर
बदसूरत चाँद की तरह
वह  परिक्रमा  करता है

दूसरे के पास -

पैर में टूटी चप्पल है
सूत भर फुटपाथ है
जिसके कोने कोने में गूँजती
डरावनी पदचापों का एहसास
एक जनम मे ही
कई पुनर्जन्मों का होना है

चीख है -पुकार है
मुरझाता यौवन है
एक कपड़े मे सिमटा तन है
वेदना और सूखे आंसुओं की
अनोखी दुनिया में
उसका होना
एलियन का मिलना है

'दूसरे' का घर
'एक' के ठीक सामने है
एक समय पर
अक्सर
दोनों एक दूसरे के सामने होते हैं
'दूसरा' हाथ फैलाता है
और 
उसके ज़ख़्मों से
बेपरवाह 'एक'
काले शीशे वाली कार मे
निकल जाता है
समाजसेवा को।


©यशवन्त माथुर©

24 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. समाज की नंगी - कड़वी तस्वीर उकेरती रचना ..... शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन.....
    सार्थक लेखन यशवंत...
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  3. bahut hi badhiya bhaw...yashwant jee kabhi samay mile to http://pankajkrsah.blogspot.com pe padharen. apaka swagat hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. पंकज जी आपका ब्लॉग देखा ....आपकी कुछ पंक्तियों को अपना फेसबुक स्टेटस भी बना दिया है। आप वास्तव मे बहुत अच्छा लिखते हैं ऐसे ही लिखते रहें।

      Delete
  4. Vidambana hai!
    Sundar Abhivakti...
    Saadar
    Madhuresh

    ReplyDelete
  5. यही विडम्बना है समाज की ..... यही विसंगति बढ़ती जा रही है ।

    ReplyDelete
  6. एक तीखा व्यंग .. आमने-सामने की छोडिये यसवंत ... अपने घर में ही ऐसी कहानी है .. एक भाई समाज सेवा करता है ... दुर्सरा भीख मांगता है

    ReplyDelete
  7. ये तो इश्वरीय विडंम्बना है,लेकिन समाज द्वारा इसे दूर किया जा सकता है,,,

    RECENT POST : गीत,

    ReplyDelete
  8. समाज का कटु सत्य उकेरती रचना .....

    ReplyDelete
  9. 'दूसरे' का घर
    'एक' के ठीक सामने है
    एक समय पर
    अक्सर
    दोनों एक दूसरे के सामने होते हैं
    'दूसरा' हाथ फैलाता है
    और
    उसके ज़ख़्मों से
    बेपरवाह 'एक'
    काले शीशे वाली कार मे
    निकल जाता है
    समाजसेवा को।

    BITTER TRUTH OF LIFE

    ReplyDelete
  10. .............. क्या कहा जाए यशवंत !
    सार्थक अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  11. अच्छी रचना..सोचने को कहती हुई..

    ReplyDelete
  12. Vyang ki jo dang kar de, Kadva sach behad satik tarike se prastut kiya hai...

    ReplyDelete
  13. एक सटीक व्यंग.कटु सत्य उकेरती सार्थक रचना .....

    ReplyDelete
  14. ha sahi kaha....esa hi ho chala he hamara samaj....

    ReplyDelete
  15. समाज का कटु सत्य उजागर करती रचना...

    ReplyDelete
  16. यही तो विडंबना है...संवेदनशील रचना

    ReplyDelete
  17. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 29/09/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  18. ई मेल पर प्राप्त टिप्पणी--
    indira mukhopadhyay


    ऐसी कविता पढ़ कर मुह से वह तथा दिल से आह निकलती है यशवंतजी. बड़ा समसामयिक तथा सटीक व्यंग है. साधुवाद.

    ReplyDelete
  19. badi saral bhasha men ek tulnatmak kavita.....achchi lagi.

    ReplyDelete
  20. यथार्थ का आईना दिखती बहुत ही बढ़िया पोस्ट....

    ReplyDelete
  21. विरोधी परिस्थितियों की प्रखर अभिव्यक्ति ......शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  22. पैर में है टूटी चप्पल
    सूत भर फुटपाथ है
    जिस में गूँजा करती
    डरावनी पदचाप है
    एहसास इसी जन्म का
    पुनर्जन्म में होना है
    इसी बात का रोना है

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!