प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

06 September 2012

अंतर्जाल का मायाजाल (Blog post No-351)

बड़ा विचित्र
चित्र है
अंतर्जाल के
मायाजाल का

मैं
तुम
और सब
फंस चुके हैं
इस जंजाल में
उलझ चुके हैं इतना
कि सुलझने का वक़्त नहीं

कोई
सीना तान कर
कर रहा है
सच का सामना
कोई हार के वार को
जीत का उपहार समझ कर
जी रहा है भ्रम में

सबकी
अपनी दुनिया है
अपने समूह हैं
सबके
अपने अधिकार हैं
कर्तव्य हैं

आभासी दुनिया में
आने से पहले
शायद पूर्वाभास नहीं था
भेड़ चाल का
मतभेद का
ऊंच-नीच का
शोषण का

पर
सच तो यही है
यहाँ सच कहना मना है
क्योंकि
अंतर्जाल का मायाजाल
टिका है
झूठ और दिखावे की
अदृश्य -अनकही
नींव पर। 

©यशवन्त माथुर©

30 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete

  2. मैं
    तुम
    और सब
    फंस चुके हैं
    इस जंजाल में
    उलझ चुके हैं इतना
    कि सुलझने का वक़्त नहीं
    ....namaskaar yashwant ji , bahut sarthak rachna likhi aapne ,sach kaha aapne isme sabhi ulajh gaye hai aur is mayajaal se baahar nikale ka rasta nahi hai ....kitna jhoot hai kitna sach yah to pare hai aabhasi duniyaan mai ..badhai aapko sundar srajan ke liye

    ReplyDelete
  3. yashwant padkar dukh hua ki energy se bsre tum depressiv likhoge kavita achchee hai magar tumhe isse bahar aakar kuchh nsya karna hoga

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे नहीं सर! मैंने डिप्रेसिव नहीं लिखा है....बस जो महसूस हुआ उसे ही लिखने की कोशिश मात्र की है।

      Delete
  4. अंतर्जाल के आभासी रिश्ते जो आभासी नहीं होते .... कभी कभी गहरी चोट दे जाते हैं .... जब तक इंसान भ्रम में रहता है खुश रहता है और जब भ्रम टूटता है तो हतप्रभ रह जाता है ... विचारणीय रचना

    ReplyDelete
  5. पर
    सच तो यही है
    यहाँ सच कहना मना है
    क्योंकि
    अंतर्जाल का मायाजाल
    टिका है
    झूठ और दिखावे की
    अदृश्य -अनकही
    नींव पर।
    कब तक .... !!

    ReplyDelete
  6. इस जंजाल में
    उलझ चुके हैं इतना
    कि सुलझने का वक़्त नहीं,,,,,आपने सही कहा,,,,

    सार्थक सुंदर प्रस्तुति,,,,,
    RECENT POST,तुम जो मुस्करा दो,

    ReplyDelete
  7. सच कहा....
    बढ़िया कहा.......

    सस्नेह
    अनु दी

    ReplyDelete
  8. बहुत खुब. सुन्दर रचना.

    सादर.

    ReplyDelete
  9. उत्कृष्ट रचना

    ReplyDelete
  10. पर
    सच तो यही है
    यहाँ सच कहना मना है
    क्योंकि
    अंतर्जाल का मायाजाल
    टिका है
    झूठ और दिखावे की
    अदृश्य -अनकही
    नींव पर।
    इसी ठगने ठगाने की क्रिया में बीत जाती है जिंदगी क्या ज्यादा सोचना , और सोच भी लिया तो होगा क्या?

    ReplyDelete
  11. अंतरजाल के अंतर्द्वंद को प्रस्तुत करती सुन्दर रचना.

    आभार.

    ReplyDelete
  12. वाह ये तो इंटरनेट की क्‍लास हो गई

    ReplyDelete
  13. बिल्कुल सही कहा इसी माया सभी फँसे हैं ..बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  14. बढ़िया रचना | बहुत कुछ सच बयां क्या है आपने |

    ReplyDelete
  15. क्यों न हम यह सोचकर ही खुश हो लें ...की इसी अंतरजाल की बदौलत...इतने सुन्दर मित्र बना सके हम सब ..क्यों है न ....

    ReplyDelete
  16. अंतर्जाल का मायाजाल
    टिका है
    झूठ और दिखावे की
    अदृश्य -अनकही
    नींव पर।
    ISLIYE ISMEN NAHI PHANSO TO HI THEEK HAE,
    ACHHI RACHNA YASHWANTJI

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया... जब जैसा महसूस हो लिख देना चाहिए...

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया... जब जैसा महसूस हो लिख देना चाहिए...

    ReplyDelete
  19. अंतर्जाल का मायाजाल
    टिका है
    झूठ और दिखावे की
    अदृश्य -अनकही
    नींव पर।

    sach kaha hai, bahut sunder abhivyakti.
    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  20. bahut achchi rachna par mere vichar se to ye aabhasi dunia vastavik dunia se kuch bhi alag nahin...jaise mukhote log vastivk dunia mein lagaye ghumte hai vaise hi yahan par bhi...

    ReplyDelete
  21. मायाजाल का सच लिखा है ...
    बहु खूब ... बधाई यशवंत जी ...

    ReplyDelete
  22. आपकी बात में दम है. आभासी दुनिया शायद रचना जी का दिया शब्द है.
    यदि हमारे आभास भी ठीक हो जाएँ तो हमारा व्यक्तित्व बेहतर बन सकता है. आभासी दुनिया का यह महत्व है.

    ReplyDelete
  23. पर
    सच तो यही है
    यहाँ सच कहना मना है
    क्योंकि
    अंतर्जाल का मायाजाल
    टिका है
    झूठ और दिखावे की
    अदृश्य -अनकही
    नींव पर।

    bauhat khoob...

    ReplyDelete
  24. sach kaha apne...sundar shabdo may...

    ReplyDelete
  25. बहुत सटीक और विचारणीय रचना...

    ReplyDelete
  26. mano to duniya mai bahut kush aabhaasi hai , na mano to kuch nhi, dukh aur sukh to sifr apno se hi milte hai , to agar es antarjaan se hme kuch dukh milta hai to hmto yhi sochte hai chalo apno mai ek aur naam jud gaya....
    aapne wahi likha jo anubhav kiya aur ye anubhav kewal aapka nahi....

    ReplyDelete
  27. पूरा सच बोलना मना नहीं है यहाँ ,लेकिन लोग स्वेच्छया "आधा सच "बोलतें हैं लिखतें हैं ब्लोगियातें हैं .क्या कीजिएगा ? .
    ram ram bhai
    मंगलवार, 11 सितम्बर 2012
    देश की तो अवधारणा ही खत्म कर दी है इस सरकार ने

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!