प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

06 September 2013

जन्नत निकल पड़ी है,गबन दोज़ख का करने

निकल जाए जो साँस, तो मुर्दा बदन देख कर
ज़ख्मी रूह भी आएगी,जनाज़े का मंज़र देखने।
मैं इंतज़ार में हूँ,कफन कोई ला दे मुझको
चल दूंगा फिर खुद ही,खुद को दफन करने।
अब और नहीं चलना,इस राह ए जिंदगी पर
जन्नत निकल पड़ी है,गबन दोज़ख का करने।

  ~यशवन्त यश©

14 comments:

  1. मैं इंतज़ार में हूँ,कफन कोई ला दे मुझको
    चल दूंगा फिर खुद ही,खुद को दफन करने।
    bahut sundar bhavpoorn abhivyakti .

    ReplyDelete
  2. शुभप्रभात बेटे
    ये क्या है
    क्यूँ है

    ReplyDelete
    Replies
    1. नमस्ते आंटी!
      ये कुछ पंक्तियाँ हैं।
      इसलिये हैं क्योंकि मेरे मन ने इन्हें लिखने को बोला।

      सादर

      Delete
  3. अब और नहीं चलना,इस राह ए जिंदगी पर
    ***
    कई बार ऐसा मेरे मन में भी आता है:(
    पर ज़िन्दगी है न, जी जानी चाहिए हर हाल में:)

    Well written!

    ReplyDelete
  4. पंक्तियाँ बहुत सुन्दर हैं..पर भाव तुम्हारे लायक नही.

    ReplyDelete
  5. सुन्दर ग़ज़ल

    ReplyDelete
  6. कुछ अधिक कडवी हैं पंक्तियाँ ..

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete
  8. ज़माने के सितम से हर के रूह जख्मी हो गए हैं.... फिर भी हमें जीना पड़ता है... बहुत अच्छा लिखा...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  10. सुंदर भाव लिये रचना..

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!