प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

14 April 2014

बदलाव का दौर

जब महका करता था
हर गली कूंचा
फूलों की खुशबू से
और उस खुशबू को
अपने आगोश में ले कर
सुबह और शाम की
ठंडी हवा
फैला दिया करती थी
पूरे मोहल्ले में .....
जब इसी खुशबू को साथ लिये
डाल डाल पर बैठे पंछी
छेड़ा करते थे सरगम
और उसकी धुन पर
नाचा करते थे
छोटे छोटे बच्चे .....
बेखौफ निकलकर बाहर
घर की चारदीवारी से
रोज़ मिलते थे गले
अमीर और गरीब
सिर्फ उम्र के लिहाज के साथ
मगर आज ......?
आज क्यारियों से सिमट कर
फूलों की वह खुशबू
बोन्साई का रूप धर कर
कैद हो गयी है
छोटे छोटे गमलों के
दम घोटते दड़बों में ....
हवा आज भी चलती है
पर उड़ाती चलती है
नये बनते
मकानों के बाहर
फैली रेत और मौरंग.....
पंछी अब भी बैठते हैं
मगर डालों पर नहीं ....
घर के छज्जों पर लगे
कूलरों की
घड़ घड़ आवाज़
दबा देती है
सरगम के सुर .....
अब बच्चे नाचते नहीं
नचाया करते हैं
कीबोर्ड और माउस पर
अपनी नन्ही उँगलियाँ
दिखाया करते हैं करतब
स्क्रीन पर चलते
वीडियो गेम्स के ....
अब मिलते नहीं गले
मोहल्ले के अमीर-गरीब
क्योंकि उनके घरों के बीच
खुद चुकी है
दूरियों की गहरी खाई ....
वो दौर और था
यह दौर और है
आने वाला दौर
कुछ और होगा
पर क्या यह बदलाव
बदल सकेगा रंग
इन्सानों
और
जानवरों की
रग रग में बहते
लाल खून का ?

~यशवन्त यश©

9 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. bahut sundar ........samay ke sath bahut kuchh badal gaya rah gain sirph yaaden ......

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना मंगलवार 15 अप्रेल 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. समय बह रहा है ।
    बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (15-04-2014) को "हालात समझ जाओ" (चर्चा मंच-1583) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. bahut hi achha likha hai

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  6. बि‍ल्‍कुल सच कहा...इन दि‍नों यूं ही होता है...खुद गई है चौड़ी खाई

    ReplyDelete
  7. लहू का रंग तो सिर्फ लाल ही होता है … सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  8. समसायिक यथार्थपूर्ण रचना..बदलाव हर पहलु को खूबसूरती से छुआ है के मन ने..बधाई..

    ReplyDelete
  9. very nice*
    bahut hi achha se expain kiya hai aapne aise hi likhte rahiye*
    Bahut Bahut Dhanyawad

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!