प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

26 April 2014

वह भी कुछ तप कर मुस्काए ...



हँसिया-हथोड़ा चलाने वाला
गर ऐसा पत्थर हो जाए
संतुष्टि के फूलों जैसा
वह भी कुछ तप कर मुस्काए ...

वह दृश्य होगा सुकून भरा
जब पसीने के पानी से 
सिंच कर ….
रंग-बिरंगा उपवन होगा
हर पत्थर के सीने पर।

~यशवन्त यश©

10 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. Pathar par pasine se sinchit upvan...kya vichaar hai ! Bahut badhiya yashwant ji :-)

    ReplyDelete
  2. -सुंदर रचना...
    आपने लिखा....
    मैंने भी पढ़ा...
    हमारा प्रयास हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना...
    दिनांक 28/04/ 2014 की
    नयी पुरानी हलचल [हिंदी ब्लौग का एकमंच] पर कुछ पंखतियों के साथ लिंक की जा रही है...
    आप भी आना...औरों को बतलाना...हलचल में और भी बहुत कुछ है...
    हलचल में सभी का स्वागत है...

    ReplyDelete
  3. आमीन ... काश ये कल्पना साकार हो सके ...
    बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  4. आमीन...कोमल भाव !

    ReplyDelete
  5. काश कि वो दिन भी आए … अति उत्तम विचार। शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. waah, bahut hi achhi rachna

    shubhkamnayen

    ReplyDelete