प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

08 April 2015

बदलता ज़माना .....

कभी
किसी जमाने में
निकला करते थे
सूरज और चाँद
पेड़ों की
या
पहाड़ों की
ओट से
हँसते मुस्कुराते हुए
अपनी गरमाहट
और ठंडक से 
दिया करते थे
शांति 
झुलसते या
ठिटुरते मन को ....
और अब
आज के
इस दौर में
चाँद और
सूरज पर
दिखने लगा है
असर
समय के
संक्रमण का  .....
दोनों
निकलते हैं
अब भी
अपने समय से 
एक उदासी के साथ
तलाशते हैं
हरी पत्तियों का
स्वागत हार
लेकिन
अब इनके
चेहरे के सामने
हर सुबह और शाम 
खड़ी होती है 
सीमेंट की
ऊंची दीवार 
जिसके उस पार
प्रकृति से बेपरवाह
हम सब
उलझे रहते हैं
बदलते जमाने की
भूल भुलैया में। 
 
~यशवन्त यश©

No comments:

Post a comment

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

Popular Posts

+Get Now!