प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

01 April 2015

मूर्ख कौन ?

मूर्ख कौन ?

वह ?
जो दिन रात एक करके
खून पसीने से
सींचता है
खेतों में
लहलहाती फसलों को
और बदले में
झेलता है
आँधी-पानी
तीखे कटाक्ष
खाता है
समय की तीखी मार
और हो जाता है शरणागत
मृत्यु देवी के चरणों में......

या
मूर्ख
वह ?
जिसकी पोटली में
भरे रहते हैं
झूठ के
अनंत आश्वासन
और उसकी निगाहें
ताकती हैं मौका
किसी की
बंजर -उर्वर
धरती को
छलनी करके
आंसुओं की नींव पर
सपनों की
दुनिया सजाने का ....

जो भी हो
मूर्ख
और मूर्खता
जड़ मूल हैं
किसी की विपत्ति
और
किसी की समृद्धि का
क्योंकि
विकास और विनाश
संभव नहीं
सीधे सादे
तरीकों से
आज के समय में।

~यशवन्त यश©

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

+Get Now!