प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

10 October 2015

नाटक

नाटक -
कुछ खेले जाते हैं
मंच पर
जिनकी पटकथा
और संवाद
सुनिश्चित हैं । 

नाटक-
कुछ बन जाते हैं
अपने आप
और हम सब
उनके पात्र
नाचते हैं
बंध कर 
किसी डोरी से ।

नाटक
भले ही होते हैं
कुछ काल्पनिक
कुछ वास्तविक
पर जीवन का
हिस्सा होते हैं
सुबह
और शाम की तरह।
 
~यशवन्त यश©

1 comment:

Popular Posts

+Get Now!