प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

17 March 2019

अगर न थमे ये कदम.......

क्या होगा
उस नफरत से
जो बाँटती है
इंसान को
आपस ही में?
क्या होगा
उस दहशत से
जो पसरती जा रही है
दिलो-जान में?
.
कहीं
एक तरफ
मची हुई हैं
चीखें-पुकारें
बिखरी हुई हैं
छिन्न-भिन्न लाशें
आंसुओं के सैलाब
और गम.... । 
तो कहीं
दूसरी तरफ
हम जैसा ही कोई
मना रहा है
खुशियाँ
सिर्फ इसलिए
कि मरने वाले की
दूसरी थी कौम ।
.
हम
बुरी तरह
फंस चुके हैं
अपने अहं
और तुष्टि के
माया जाल में
बिना सत्य को जाने
वास्तविकता को
दरकिनार करते हुए
गहरे अंधेरे की ओर
बढ़ते ये कदम
अगर न थमे
कहीं पहले
तो सदियाँ लगेंगी
फिर से
उजियारा आने में।

-यश©
17-मार्च-2019 

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

+Get Now!