प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

10 April 2019

यहाँ न कोई किस्सा हो........

न गिला-शिकवा हो कोई,
न अपना कोई किस्सा हो।
बीत जाए जो ये ज़िन्दगी,
तो फिर कितना अच्छा हो।
.
बहुत पल बीते बहार में,
यह पतझड़ का दौर है।
अपना न कोई बेगानों में,
मौत ही अब एक ठौर है।
.
वो कहते हैं मैं सुनता हूं,
ये बात न हो तो अच्छा हो।
बीते कल की दोहराहट का,
यहाँ न कोई किस्सा हो।
.
~यश©
09/04/2019

3 comments:

  1. हमें जीवन के मर्म को समझना है न की मौत को आवाज देना...मौत कभी किसी का ठौर नहीं हो सकती क्योंकि मौत केवल देह की होती है, मन तो उस वक्त भी बना ही रहता है जब देह निष्प्राण हो जाती है. फिर एक नई देह और यह क्रम चलता ही रहता है...

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!