प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

26 November 2020

अगर वह जाग गया ....

किसान! 
खून-पसीना एक कर 
दाना-दाना उगाता है 
हमारी रसोई तक आकर 
जो भोजन बन पाता है 
इसीलिए 
कभी ग्राम देवता 
कभी अन्नदाता कहलाता है 
लेकिन 
क्या कभी देखा है?
उसे भोग और विलास में 
क्या कभी देखा है ?
कहीं उसका कोई महल खड़ा 
या देखा है ?
उसे सोते हुए
सोने और चांदी के बिस्तर पर  
नहीं!
कभी नहीं! कहीं नहीं! 
वह तो आज के इस विकसित युग में भी 
विकासशील होने की चाह लिए 
अब तलक अविकसित ही है 
और जब भी 
वह आवाज उठाता है 
करता है कोशिशें 
अपने वाजिब हक और दाम की 
हम आरामतलब लोग 
उसकी मेहनत को 
तोल देते हैं 
लाठियों की मार 
और आँसू गैस की कीमत से 
क्योंकि हम जानते हैं...
किसान  
अगर वास्तव में जाग गया
अपनी पर आ गया  
तो उसके शोषण की नींव पर बनी 
हमारे अहं 
और स्वार्थ की छद्म इमारत 
एक पल भी नहीं लगाएगी 
भरभराकर 
गिरने में। 

-यशवन्त माथुर ©
26112020

13 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. पत्थर जैसी मार करने वाली सच्ची बात कह दी है यशवंत जी आपने ।

    ReplyDelete
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (२८-११-२०२०) को 'दर्पण दर्शन'(चर्चा अंक- ३८९९ ) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  3. किसानों काआन्दोलन जोर पकड़ता जा रहा है, सरकार उनकी बात अनसुनी नहीं कर सकती, समसामयिक रचना

    ReplyDelete
  4. किसान
    अगर वास्तव में जाग गया
    अपनी पर आ गया
    तो उसके शोषण की नींव पर बनी
    हमारे अहं
    और स्वार्थ की छद्म इमारत
    एक पल भी नहीं लगाएगी
    भरभराकर
    गिरने में।
    वाह!!!
    बहुत सटीक ।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. मर्मस्पर्शी सृजन ।

    ReplyDelete
  7. सामायिक विषय पर यथार्थ चिंतन देती सार्थक रचना।

    ReplyDelete
  8. आज के हालात पर बहुत ही सटीक अभिव्यक्ति,यशवंत जी।

    ReplyDelete
  9. सटीक विवेचना करती समसामयिक रचना..।सुंदर सृजन..।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  11. अर्थपूर्ण अभिव्यक्ति - - सठिक सामयिक रचना, कृषकों के ज्वलंत समस्या को उजागर करती हुई असाधारण रचना।

    ReplyDelete