प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

21 August 2022

कुछ लोग-56

संस्थानों में 
वरिष्ठ पदों पर आसीन 
कुछ लोग 
या तो 
कनिष्ठों से होते हैं मित्रवत 
दी गई सीमा के भीतर 
उनसे काम करा लेने वाले 
उनके दिल में 
एक खास मुकाम बनाने वाले 
या होते हैं
इस कदर टेढ़े 
कि मुस्कुराते हुए भी 
दिखा ही देते हैं 
अपनी अकुशलता के प्रतिरूप.....  
क्योंकि 
उनको भाता है
अपने कार्मिकों के  
आपस की 
हर बात पर 
प्रतिबंध लगाना ...
क्योंकि 
वह सिर्फ चाहते हैं
अपने इशारों पर नचाना 
और क्योंकि 
अपने हल्के होते 
कार्यभार के कारण  
उनके पास बचता नहीं 
अपने लिए 
कोई भी बहाना। 
ऐसे लोग 
अपने निहित स्वार्थ के लिए 
कुछ समय को  
कर सकते हैं 
किसी एक 
सीधे-सच्चे इंसान को 
अस्थिर और परेशान  
लेकिन 
खुद के बोए काँटों पर चलना 
शायद उनके लिए भी 
नहीं होता आसान। 

-यशवन्त माथुर©
21082022

3 comments:

  1. आपकी बातें बहुत कुछ सच हैं। आपका भोगा हुआ यथार्थ लगता है। मेरा भी है।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर सृजन

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!