प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

31 March 2018

मौन के एकांत में

मौन के एकांत में
कहीं खो कर
किसी निर्वात के
हवाले हो कर
सोच रहा हूँ
खुद पर लगे
प्रश्न चिह्न हटाने की
खुद से खुद की
दूरियाँ मिटाने की
यह  समय
जो अपने हर पल
ले रहा है मेरा इम्तिहान
कातिलाना होकर
न जाने क्यों
मुझ पर चाह रहा है
टूट पड़ना
न जाने क्यों
चाह रहा है
मुझ से लड़ना
खैर
मुझे लड़ना है
खुद के उस अबूझ
अन-सुलझे
आवरण से
जो अनचाहे ही
चस्पा हो गया है
मेरे चेहरे पर।

यश ©
31/03/2018 

1 comment:

Popular Posts

+Get Now!