प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

14 February 2019

कफन पर 'प्यार' लिख कर वो.........

कफन पर 'प्यार' लिख कर वो, वतन पर मर-मिट जाते हैं।
एक हम ही हैं जो अपनी चादर में, और सिमट ही जाते हैं।
यह युद्ध नहीं फिर भी आखिर क्यूँ,  लम्हे ऐसे आते-जाते?
अपनी सीमा के भीतर ही क्यूँ, कतरे लहू के  बहते जाते ?
यह अंत नहीं आरम्भ है बंधु! अब और शहीद न होने देंगे ।
हिन्द का एक मजहब है सेना,अब इसको और न खोने देंगे ।
.
पुलवामा के शहीद सैनिकों को विनम्र श्रद्धांजलि!

-यश ©
14/02/2019



4 comments:

  1. बहुत प्रेरक और सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  2. श्रद्धाँजलि वीरों को।

    ReplyDelete
  3. विनम्र श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  4. सार्थक रचना

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!