प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

20 January 2021

रिश्ते जरूरी नहीं....

रिश्ते जरूरी नहीं रिश्तों के बिना भी अब तक अनजान कुछ लोग अचानक ही
कहीं मिलकर अपने से लगने लगते हैं मीलों दूर हो कर भी उनकी दुआओं के कंपन
संजीवनी के रंगों से
उम्मीदों के कैनवास पर
दिखने लगते हैं।

रिश्ते जरूरी नहीं
रिश्तों के बिना भी
नीरस जीवन की
अनंत गहराइयों तक जाकर
महसूस किया जा सकता है
वास्तविकता के कठोर तल पर
टूट चुकी उम्मीदों के भविष्य का
कोमल स्पर्श।

-यशवन्त माथुर ©
20012021

15 comments:

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 21.01.2021 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा| आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. रिश्ते जरूरी नहीं
    रिश्तों के बिना भी
    अब तक अनजान
    कुछ लोग
    अचानक ही
    कहीं मिलकर
    अपने से लगने लगते हैं ।

    खूबसूरत रचना।

    ReplyDelete
  3. बहुत सूक्ष्म अवलोकन, वाकई रिश्तों की आवश्यकता उसी को है जो अभी तक खुद से ही रिश्ता जोड़ नहीं पाया, जिसने अपनी गहराई को पहचाना है, वह महसूस कर लेगा उन अदेखे भावों को भी जो अनजान रास्तों से चले आते हैं और बन जाते हैं बिना बनाये किन्हीं के साथ रिश्ते !

    ReplyDelete
  4. महसूस किया जा रहा है ।

    ReplyDelete
  5. सच कहा है यशवन्त जी, बिल्कुल, कुछ अनजाने रिश्ते आपको ऐसी डोर में बाँध लेते हैं, जो जीवन जीने की कला सिखा देते हैं..सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  8. सही कहा आपने महसूस किया जा सकता है।
    बहुत ही सुंदर सृजन।
    सादर

    ReplyDelete
  9. बिल्कुल सही रिश्ते तो अनुभव की वस्तु है

    ReplyDelete
  10. रिश्तों को सिर्फ़ महसूस किया जा सकता है। बहुत अंदर अभिव्यक्ति, यशवंत भाई।

    ReplyDelete
  11. आपने ठीक कहा यशवंत जी ।

    ReplyDelete
  12. रिश्ते जरूरी नहीं..
    एहसास जरूरी है..
    रिश्ते हो मृतप्राय..
    और अपनापन ना हो..
    रिश्तों की फिर क्या साथर्कता..
    यदि शामिल उसमे मन ना हो..

    आपको समर्पित..

    ReplyDelete
  13. रिश्ते जरूरी नहीं
    रिश्तों के बिना भी
    अब तक अनजान
    कुछ लोग
    अचानक ही
    कहीं मिलकर
    अपने से लगने लगते हैं
    सही कहा आपने...कुछ लोग रिश्तों के बिना भी अपने से लगते हैं तो कुछ रिश्ते अपने होकर भी दूर के लगते हैं...ये सब महसूसने की बात है जो सामने वाले के व्यवहार पर निर्भर करती है।
    बहुत सुन्दर सृजन।

    ReplyDelete