प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

26 January 2021

क्या यह वही देश है?

जो जाना जाता था 
किसान के हल से 
अपने सुनहरे कल से 
जिसके खेतों में फसलें 
झूम-झूम कर 
हवा से ताल मिलाती थीं 
पत्ती-पत्ती फूलों से 
दिल का हाल सुनाती थी 
जहाँ संपन्नता तो नहीं 
संतुष्टि की खुशहाली थी 
महंगी विलासिता तो नहीं 
पर ज़िंदगी गुजर ही जाती थी 
कितना अच्छा था पहले 
वैसा अब आज नहीं 
पहले सुराज था 
आज तो स्वराज नहीं 
आज तो 
बस पल-पल बिगड़ता 
सबका वेश और परिवेश है
जो गणतंत्र था सच में कभी  
क्या यह वही देश है?

-यशवन्त माथुर ©
24012021

15 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. यक्ष प्रश्न ... जिसका संभवतः कोई उत्तर नहीं है । गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  2. सत्य है..यह वही देश नहीं..
    सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. प्रश्न तो सही है..इस विषय पर चर्चा होनी चाहिए, सुन्दर कृति..
    मेरे लेखों के ब्लॉग लिंक "गागर में सागर" पर आपके स्नेहपूर्ण भ्रमण का स्वागत है..गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें..जिज्ञासा सिंह..

    ReplyDelete
  4. सोचने को विवश करती बहुत सुन्दर रचना।
    72वें गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  5. विचारणीय प्रश्न ....

    बहुत अच्छा विचारोत्तेजक लेख

    ReplyDelete
  6. देश तो वही है, अलबत्ता कुछ देशवासी जरूर पथभ्रष्ट हो गए हैं

    ReplyDelete
  7. नहीं यशवन्त जी, यह वह देश नहीं है । वह देश अब केवल पुरातन स्मृतियों में रह गया है । इस समयकाल में तो आप ही की बात सत्य है कि पल-पल बिगड़ता सबका वेश व परिवेश है ।

    ReplyDelete
  8. हृदय को बिंधता प्रश्न पर सटीक ।
    सब कुछ तो बदल गया है ,न वो नेता न व जनता न वो जनतंत्र,न वो जज्बा कुछ इतिहास के पृष्ठों पर अंकित वो उच्च आदर्शों वाला देश।
    अप्रतिम सृजन।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  10. बहुत सरल शब्दों में उतनी ही सहजता से आपने व्यक्त की हम सब के मन की व्यथा.
    हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  11. गणतंत्र दिवस पर तथाकथित किसानों की बेहूदा हरकतें अब सोचने को विवश करती हैं उन्हें भी जिन्हें इनसे बेहद सहानुभूति थी...।
    बहुत सुन्दर सार्थक विचारणीय सृजन।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर सृजन।
    सादर

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर और सार्थक सृजन वाह ! बहुत सुंदर कहानी,
    Poem On Mother In Hindi

    ReplyDelete