प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

22 April 2021

वक़्त के कत्लखाने में-22

हो रहा है 
वही सब कुछ अनचाहा 
जो न होता 
तो यूँ पसरा न होता 
दिन और रात के चरम पर 
दहशत और तनाव का 
बेइंतिहा सन्नाटा 
लेकिन हम! 
हम बातों 
और वादाखिलाफी के शूरवीर लोग 
वर्तमान का 
सब सच जानते हुए भी 
तटस्थता का कफन ओढ़ कर 
समय से पहले ही 
लटकाए हुए हैं 
भविष्य की कब्र में अपने पैर ..
सिर्फ इसलिए 
कि 
वक़्त के कत्लखाने में 
प्रतिप्रश्नों की 
कोई जगह नहीं। 

-यशवन्त माथुर©
22042021

9 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. वक़्त के क़त्लखाने में जिबह होती ज़िंदगी की रिरियाहट अब बेअसर सी हो रही,अपने अपने दर्द में डूबे लोग पत्थर में तबदील हो जायेंगे एकदिन।
    ------
    समसामयिकी बेहतरीन ,बेहद मुखर रचना।
    सादर।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. आपकी इस अभिव्यक्ति के शब्द-शब्द में भरे यथार्थ को अनुभव कर रहा हूँ आदरणीय यशवंत जी।

    ReplyDelete
  4. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (२४-०४-२०२१) को 'मैंने छुटपन में छिपकर पैसे बोये थे'(चर्चा अंक- ४०४६) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
  5. वक्त के आगे किसकी चली है, दहशत और तनाव का यह सन्नाटा भी वक्त का सैलाब ही एक दिन बहाकर ले ही जायेगा, प्रभावशाली लेखन

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  7. गज़ब! सीधे हृदय तक उतरता सत्य।
    सुंदर सृजन।

    ReplyDelete
  8. अति मार्मिक एवं सटीक..

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!