प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

28 March 2021

तो कितना अच्छा हो

सामाजिक दूरी की 
मान्यता वाले 
इस कल्पनातीत दौर में 
चुटकी भर रंगों की 
औपचारिकता के साथ 
बुरा मानने को मिल चुकी 
वैधानिकता के साथ 
बस तमन्ना इतनी है 
कि सड़कों के किनारे 
और झुग्गियों में रहने वाले 
गर रख सकें जीवंत 
शहरी रईसों द्वारा 
इतिहास बना दी गई 
फागुन की 'असभ्यता' को 
तो कितना अच्छा हो।  

तो कितना अच्छा हो 
कि आखिर कहीं तो 
हम साक्षात हो सकें 
अपने बीत चुके वर्तमान से 
जिसने कैद कर रखा है
गली-गली की मस्तियों को  
डायरियों और तस्वीरों में 
जिसने घूंट-घूंट कर पिया है 
और  जीया है 
भंग की तरंग में 
लड़खड़ाती जुबान 
और कदमों की थिरकन को
काश!
यूँ समय के सिमटने के साथ 
हम कभी भूल न पाएं 
हिलना-मिलना 
और गले लगना 
तो कितना अच्छा हो।  
.
(होली का पर्व आप सबको सपरिवार शुभ और मंगलमय हो) 

-यशवन्त माथुर©
28032021

Popular Posts

+Get Now!