प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

01 May 2021

सच तो सामने आएगा ही

सच 
सिर्फ वही नहीं होता 
जिसे हम देखते हैं 
या 
जो हमें दिखाया जाता है 
सच 
कभी-कभी छिपा होता है 
घने अंधेरे की 
कई तहों के भीतर 
जिसे कुरेदना 
आसान नहीं होता
और फिर भी 
शंकावान होकर 
गर कोई दिखाना चाहे भी 
तो उसे कर दिया जाता है किनारे 
पागल-सनकी और न जाने 
क्या-क्या कहकर 
इसके बाद भी 
कई युगों के बाद 
सच से 
साक्षात्कार का समय आने तक 
हम देख चुके होते हैं 
विध्वंस के कई दौर 
इसलिए 
बेहतर सिर्फ यही है 
कि हम सुनें 
उन चेतना भरी आवाजों को
जिन्हें दबा दिया जाता है 
हर तरफ उठ रही 
आग की लपटों 
और 
बेहिसाब शोर में। 

-यशवन्त माथुर©
01052021

4 comments:

  1. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  2. सही है, सच को उजागर करना ही चाहिए और चाहे इसे कितना ही दबा दिया जाये सच को सदा के लिए छिपाया नहीं जा सकता

    ReplyDelete
  3. बहुत सही कहा आपने यशवंत जी,सार्थक सृजन।

    ReplyDelete
  4. कोई भी सच अनंतकाल तक छुपा नहीं रह सकता, कहा तो ऐसा ही जाता है। और चेतना के स्वरों को सुनने में ही हमारा कल्याण है चाहे उन्हें मिथ्या प्रचार के शोर में दबा देने के कितने ही प्रयास क्यों न किए जा रहे हों।

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!