प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

19 June 2010

आज फिर मन .....

आज फिर मन मचल रहा है,
मदिरालय में जाने को.
दो घूँट पी कर साकी के,
गैरों  संग  झूम जाने को.
रिश्ते नाते दुनियादारी,
चाहता हूँ भूल जाने को.
जिनसे कुछ न लिया दिया,
आते वही गले लगाने को.
तन्हाई में विष का प्याला,
तड़पता अमृत कहलाने को.
अधर कहते कदम ताल कर,
मधुशाला में जाने को.

4 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (30-06-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब .. मन है की मानता नहीं ...

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बेहतरीन रचना है...
    बहुत खूब....
    :-)

    ReplyDelete
  4. बढ़िया प्रस्तुति ,राह पकड़ तू एक चलाचल पा जाएगा मधुशाला ...

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!