प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

10 December 2011

माटी की याद .....

विदेश में प्रवास कर रहीं अपनी एक फेसबुक और ब्लॉगर मित्र से चैट पर बात करने के बाद लिखी गयी यह पंक्तियाँ उनको और सभी प्रवासी भारतियों को समर्पित कर रहा हूँ---
========================================================

अपनी माटी की
सोंधी सी महक से
मीलों दूर
अपने सपनों की धरती पर
उड़न खटोले से
आ उतरने के बाद
मैंने कोशिश तो बहुत की
कि भूल जाऊं
उन तंग गलियों को
छुटपन मे भाग  भाग कर
जिनमे खेला करता था

कोशिश तो बहुत की
कि भूल जाऊं
गली के उस पार
काका की
कोने वाली दुकान को
जहाँ मैं लेता था स्वाद
गरम गरम जलेबी का
और अक्सर
झगड़ता था उनसे
100 ग्राम तौलने के बाद भी
एक जलेबी और
बढ़ा कर देने को

कोशिश तो बहुत की
कि भूल जाऊं
उस स्कूल को
जिसने दिया एक आधार
इस मुकाम तक आने का

कोशिश तो बहुत की
कि भूल जाऊं
घर घर मे खिलने वाले
देसी लाल गुलाब की
मादक खुशबू को

मगर न चाह कर भी
बे इंतिहा
आ रही है याद 
अपनी उसी माटी की
जहां अब भी
मेरे अपनों के बीच
कहीं छुपा बैठा है
मेरा दिल

भीगती आँखों से
गिरते आंसुओं मे
तैर रहा है अक्स
'काबुलीवाला'  का

मजबूरी के पिंजरे मे
कैद हो कर
गुनगुना रहा है
मेरा तन और मन-

'ऐ मेरे प्यारे वतन
ए मेरे बिछुड़े चमन 
तुझ पे दिल कुर्बान !'

37 comments:

  1. गहन भाव मन के ...
    बहुत सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  2. अपने वतन की सोंधी मिट्टी की खुशबू को भुला पाना नामुमकिन है !वतन से दूर जाने पर ही इसका महत्व मालूम होता है !
    आभार !

    ReplyDelete
  3. hum to hai pardesh me desh me nikla hoga chand...ye mati ki yaad kabhi jati hi nahi balki aur bhi badhti jati hai....

    ReplyDelete
  4. बतन की याद दिलाती बहुत सुन्दर रचना.... ! बाहर जाने के बाद , बतन की कीमत पता चलता है.... !!

    ReplyDelete
  5. सार्थक पोस्ट
    सुंदर रचना

    ReplyDelete
  6. अपने वतन की सोंधी और सच्ची मिट्टी की खुशबू को कौन भूला पाता है. सच कहा...भाव मयी दिल को छूने वाली सुन्दर रचना..शुभकामनाएँ....

    ReplyDelete
  7. वाह, बेहतरीन रचना है... वतन से दूर ऐसा ही होता है... अपने भी बीते दिन याद आ गए...


    'छोटी बात' पर:
    कोलकाता जैसे हादसों के ज़िम्मेदार हम हैं!

    ReplyDelete
  8. अपना घर, अपनी मिटटी ... भूलना कहाँ संभव है !

    ReplyDelete
  9. yashwant ji
    aapki ye racha acchi lagi.

    ReplyDelete
  10. मजबूरी के पिंजरे मे
    कैद हो कर
    गुनगुना रहा है
    मेरा तन और मन-

    'ऐ मेरे प्यारे वतन
    ए मेरे बिछुड़े चमन
    तुझ पे दिल कुर्बान !'
    aapne to mere dil ki baaten kahdali abhaar... :-)

    ReplyDelete
  11. hriday ko chuti bahut hi sundar rachna :)

    ReplyDelete
  12. सशक्त और प्रभावशाली रचना.....

    ReplyDelete
  13. कुछ अपनी सी बात लगी...बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  14. हर पंक्ति ....मन को छू गई ...बेहद गंभीर लेखनी

    ReplyDelete
  15. प्रवासी भारतीय ही क्यूँ... ये यादें तो हर व्यक्ति से जुड़ी है जो अपने बचपन की गलियों से दूर पढ़ाई या आजीविका की खातिर अन्य शहरों में बस गए हैं...!
    सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  16. apne vatan ka muly batati
    apne desh ki rah dikhati
    mati ki yad dilati
    ati sundar rachana hai..

    ReplyDelete
  17. waah ji waah...
    saara kissa-e-aam kar diya...

    ReplyDelete
  18. यशवंत भाई अपने तो आखिर अपने ही होते है.

    ReplyDelete
  19. बिलकुल यही लगता है यशवंत ..... बहुत ही सुंदर कविता

    ReplyDelete
  20. aaj apne vatan ki yaad dila di....man ko chu gayi aapki kavita..

    ReplyDelete
  21. भावुक कर देने वाली रचना।

    ReplyDelete
  22. awesome again ...
    some very very strong lines above :)

    Enjoyed as ever !!!!

    ReplyDelete
  23. कोशिश तो बहुत की
    कि भूल जाऊं
    गली के उस पार.bahut mushkil hai yadon ko bhulana.heart touching poem.

    ReplyDelete
  24. विदेशों में रहने वाले भारतीयों के मन की बात लिख दी है ..सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  25. ... यहां तो घर की मुर्गी दाल बराबर होती है

    ReplyDelete
  26. सुन्दर प्रस्तुति अच्छी लगी .

    ReplyDelete
  27. बहुत अच्छी बात कही आपने...शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  28. भावमय करते शब्‍दों का संगम ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  29. बहुत खुबसूरत.......पलकों को भीगा देने वाली यादें.....हमने सिर्फ शहर छोड़ा था अपना तो भी यादें नहीं छूटती......मुल्क छोड़ने वालो को क्या हाल होता होगा इससे पता चलता है..........बहुत सुन्दर पोस्ट...........हैट्स ऑफ इसके लिए|

    ReplyDelete
  30. देश के प्रति सुंदर भावनाओं की प्रस्तुति,.बहुत अच्छी ..

    मेरी नई रचना-

    नेता,चोर,और तनखैया, सियासती भगवांन हो गए
    अमरशहीद मात्रभूमि के, गुमनामी में आज खो गए,
    भूलसे हमने शासन देडाला, सरे आम दु:शाशन को
    हर चौराहा चीर हरन है, व्याकुल जनता राशन को,

    ReplyDelete
  31. अपने वतन की मिट्टी की खुशबू को कैसे भूला जा सकता है. सच कहा है आपने...सुन्दर रचना...शुभकामनाएँ....

    ReplyDelete
  32. कहाँ बचपन में खींच के ले गए आप ... बहुत ही गहरे जज्बात जगा गई आपकी या रचना यशवंत जी ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  33. बहुत मर्मस्पर्शी और भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  34. Wah kya likha aapne. bahut hi achchha hai

    ReplyDelete
  35. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!