प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

13 December 2018

अरे अब तो बुझ जाऊँ मैं......

इससे पहले कि शमा बुझे
खुद ही बुझ जाऊँ मैं।
मन की सुनसान राहों पर
उड़ूँ और बिखर जाऊँ मैं।

अब तक तो ये न सोचा था
क्या फलसफे होंगे कल के।
बस आज में जीते हुए ही
बुनता सपने अपने मन के।

इससे पहले कि उलझन सुलझे
खुद को ही सुलझाऊँ मैं।
आखिर कब तक जलता रहूँगा
अरे अब तो बुझ जाऊँ मैं।

-यश©
12/दिसंबर/2018 

3 comments:

  1. होता है पर समय जलना बुझना तय करता है।

    ReplyDelete
  2. भावपूर्ण..स्वयं को सुलझाना ही सर्वोत्तम है

    ReplyDelete
  3. अब तो प्रकाश ही बन गए हो बुझते और सुलगते..
    अब बुझ ना सकोगे..प्रकाशमान हो गए बिखरते बिखरते..

    सादर

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!