प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

22 December 2018

खबर की तलाश में.........

खबर की तलाश में,बन गया खबर ही खुद
बा खबर था लापता, बे खबर रहा न कुछ।

बात कोई नयी कहते हुए,काँटों पर चलते हुए
फूलों पर सोते हुए, नये ख्वाब कुछ बुनते हुए। 

बूझता पहेलियाँ रहा, खुद के अक्स पर छपता रहा
अँधेरों में भटकता रहा, हर शख्स को खटकता रहा।

हल की तलाश में, मिल रहा छल-बल  न खुद
बेहाल हो कर गिर पड़ा,ताबूत में मिला न कुछ।
.
-यश ©
22/12/2018

 


3 comments:

Popular Posts

+Get Now!