प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

12 December 2018

वक़्त के कत्लखाने में -15

यूँ ही
कभी-कभी
बैठा हुआ कहीं
देखता रहता हूँ
आवाजाही को
दिन और रात को
कल और आज को ।
यूँ ही
कभी-कभी
बैठा हुआ कहीं
सुनता हूँ
आवाज़ें
जो निकलती हैं
बंद पलकों के पर्दे पर
चल रहे
चलचित्र के
गुमनाम-
अनजान
पात्रों से।
यूँ ही
कभी-कभी
बैठा हुआ कहीं
रखता हूँ
बस यही उम्मीद
कि एक दिन
आ मिलेगी
मुझ से
मेरी परछाई
जो साथ छोड़ कर
जा पहुँची है
कहीं दूर
वक़्त के
किसी कत्लखाने में।
.
-यश ©
12/दिसंबर/2018 

1 comment:

Popular Posts

+Get Now!