प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

27 February 2021

हो उठता है......

क्यों दिल कभी यूं बेचैन हो उठता है,
रात ख्वाबों में छोड़ सुबह में खो उठता है। 

ये उजला फलक तुम्हारी रूह की तरह है,
तकता है एकटक तमन्ना छोड़ उठता है।

मेरा विषय नहीं है प्रेम फिर भी क्यों इन दिनों, 
पलकों की कोर पे ओस का जमना हो उठता है। 

बन कर सैलाब गुजरती है जब मिलने को समंदर में,
लबों के ढाल का मुकद्दर जवां हो उठता है।

जा रहा है वसंत मिलने को जेठ की दोपहरी से,
मन की देहरी को तपन का एहसास हो उठता है।

न था जो शायर और न ही होगा कभी,
बेमौसम ही शब्दों का वो पतझड़ हो उठता है।

-यशवन्त माथुर©
27022021

19 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (28-02-2021) को    "महक रहा खिलता उपवन"  (चर्चा अंक-3991)     पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    --  
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ-    
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    ReplyDelete
  2. न था जो शायर और न ही होगा कभी,
    बेमौसम ही शब्दों का वो पतझड़ हो उठता है।..उम्दा शेर ..
    सुन्दर गजल..

    ReplyDelete
  3. वाह , खूबसूरत ग़ज़ल ,यशवंत बहुत अरसे बाद तुमको पढ़ा ।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. बहुत ही खूबसूरत पंक्ति सर
    कृपया हमारे ब्लॉग पर भी आइए आपका हार्दिक स्वागत है और अपनी राय व्यक्त कीजिए!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद🙏
      जी हां आपका ब्लॉग देखा, अच्छा लगा। लिखते रहें।

      Delete
  6. वाह! बहुत ही ख़ूबसूरत सृजन।
    सादर

    ReplyDelete
  7. वाह ! वसंत जेठ से मिलने जा रहा है और मन तपा जा रहा है, बहुत सुंदर ! ऊपर ऊपर से न दिखे पर कविता की गहराई में प्रेम विषय न हो यह भला कैसे हो सकता है, शायर का दूसरा नाम ही प्रेम है, यह सारा आलम प्रेम से ही तो बना है प्रेम पर ही टिका है...

    ReplyDelete
  8. सादर धन्यवाद 🙏
    पता नहीं क्यों लेकिन प्रेम जैसे विषय पर लिखने में मुझे हिचक सी होती है। यह मेरा अब तक का दूसरा प्रयास ही है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रयास जारी रखिए, ईश्वर को प्रेम से ही पाया जा सकता है, कबीर दास ने कहा है न ढाई आखर प्रेम के पढ़े सो पंडित होये

      Delete

Popular Posts

+Get Now!