प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

01 February 2021

नजरिया



एक ही बात का 
एक नजरिया 
बिल्कुल सीधा 
वास्तविक सा 
बिना लाग-लपेट 
जैसा है 
वैसा ही 
दिखने वाला 
मन की कहने वाला 
बिल्कुल सपाट 
और स्पष्ट 
सबसे बेपरवाह 
मौसम का 
हर रूप देखने वाला 
शीत और तपन 
सहने वाला। 



और 
एक नजरिया यह भी 
एक ही तस्वीर को घुमा कर 
अपने मन से 
अपनी कल्पना को 
नये आधार पर 
नये शब्दों से 
नये साँचों में ढालने वाला 
अलग ही दृष्टि से 
कुछ देखने 
और कुछ दिखाने वाला 
अर्थों को सविस्तार 
बताने वाला। 



लेकिन 
फिर भी 
पृष्ठभूमि और किसी कोण में 
कुछ ऐसा होता है 
जो तस्वीर से कट चुका होता है 
निःशब्द 
हो चुका होता है 
और तब  
उसका अस्तित्व 
उसके मूल में रह कर 
अनर्थ की कई परिभाषाएँ 
बहती धारा में 
बहा कर 
अपने कितने ही रूप 
बदल चुका होता है...
नजरिया 
ऐसा ही होता है। 

-(चित्र और शब्द) 
यशवन्त माथुर ©
01022021

30 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (1-2-21) को "शाखाओं पर लदे सुमन हैं" (चर्चा अंक 3965) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
  2. नजरिया तस्वीर बदल देता है..
    बात की ताकीद बदल देता है..
    बहुत कुछ है निर्भर नजरिए पर..
    ये है वो जो तकदीर बदल देता है..

    ReplyDelete
  3. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (2-2-21) को "शाखाओं पर लदे सुमन हैं" (चर्चा अंक 3965) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    कामिनी सिन्हा


    ReplyDelete
  4. सुन्दर सारगर्भित सृजन के लिए हार्दिक शुभकामनाएं यशवन्त जी..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद जिज्ञासा जी।

      Delete
  5. बहुत बारीक बात कही है यशवंत जी आपने । सरलता से समझ में आने वाली नहीं है । मगर है बिलकुल सच ।

    ReplyDelete
  6. बेमिसाल अभिव्यक्ति ....
    अभिनंदन आपका !!!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीया वर्षा जी !

      Delete
  7. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीया अनुराधा जी !

      Delete
  8. नज़र के नजरिया को बहुत ही बारीकी से कसीधे सा उकेरा है आपने...बहुत ही सुंदर सराहनीय अभिव्यक्ति।
    सादर

    ReplyDelete
  9. नजरिया यदि सीधा सादा हो, जैसा है वैसा दिखाने वाला, तो जिंदगी में सहजता बनी रहती है, तोड़मरोड़ कर पेश किया गया नजरिया खुद के ही खिलाफ जा सकता है.
    गहरा विश्लेषण

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुंदर।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  12. बिल्कुल सही कहा है । बस जरा सा भी नजरिया बदल दिया जाए तो जादूई चमत्कार भी हो सकता है ।

    ReplyDelete