प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

05 February 2021

आया नहीं बसंत कि बस.......

छायावाद 
हर कलम से 
कागज पर छपने लगा 
आया नहीं बसंत 
कि बस प्रेम दिखने लगा। 

कोई राधा, कोई मीरा 
कोई गोपियों की बात करता है 
कोई संयोग में रमा-पगा 
कोई वियोगी सा 
व्याकुल लगता है। 

किसी को दिखती है 
पीली बहार 
हर तरफ बिखरी हुई सी 
कोई कोयल के सुरों में खोकर 
गुलाबों को सूँघता है। 

लेकिन 
क्या सिर्फ प्रेम ही विषय है 
आज के इस दौर का ?
जरा उसको भी देख लो 
जो अपने हक के लिये लड़ने लगा। 

आया नहीं बसंत 
कि बस प्रेम दिखने लगा। 

-यशवन्त माथुर©
05022021

25 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. वाह,बिल्कुल सत्य कहा आपने।

    ReplyDelete
  2. और भी मसले हैं..
    प्रेम ही कोई मसला नहीं ..
    विषयांतर कर के मोह ही क्यों बस पनपने लगा..
    बसंत आया नहीं कि , बस प्रेम दिखने लगा..

    सादर प्रणाम..

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (07-02-2021) को "विश्व प्रणय सप्ताह"   (चर्चा अंक- 3970)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    --
    "विश्व प्रणय सप्ताह" की   
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ-    
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    ReplyDelete
  4. बहुत सही प्रश्न उठाया है आपने....
    "क्या सिर्फ प्रेम ही विषय है आज के इस दौर का ? जरा उसको भी देख लो जो अपने हक के लिये लड़ने लगा।'

    साधुवाद 🙏

    ReplyDelete
  5. प्रभावी अंदाज ।

    ReplyDelete
  6. छायावाद
    हर कलम से
    कागज पर छपने लगा
    आया नहीं बसंत
    कि बस प्रेम दिखने लगा।

    बहुत खूब 🌹🙏🌹

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति,सादर नमन

    ReplyDelete
  8. अंधेरे में जो बैठे हैं, नज़र उन पे भी कुछ डालो, अरे ओ रोशनी वालों । आपने जो कहा, दुरूस्त कहा यशवंत जी । रूमानियत के परे भी एक दुनिया है जिसे नज़रअंदाज़ करना अपने आप को ही धोखा देना है ।

    ReplyDelete
  9. आया नहीं बसंत
    कि बस प्रेम दिखने लगा।
    बहुत सुंदर यशवंत जी 👌👌👌फ़ैज़ ने भी लिखा था----------

    और भी दुख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
    राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  11. यहां बहुत कुछ है प्रेम से परे भी..बहुत ही सारगर्भित समसामयिक विषय पर लिखी गई कविता..सुन्दर सृजन..

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!