प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

25 May 2011

अब नहीं....

अब नहीं वो जंगल जिनकी
बचपन में कहानी सुनते थे
दादी माँ की गोद में बच्चे
किस्से सुन सुन सोते थे

अब नहीं वो बब्बर शेर
जिसकी दहाडें डराती थीं
अंगूर खट्टे देख जो लोमड़ी
अक्सर ही हंसाती थी

नहीं रहीं पञ्चतंत्र की बातें
न गोदी है न लोरी है
पांच बरस में बस्ता भारी
जाने कैसी मजबूरी है ?

23 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. सच कहा है यशवंत जी .आज कल सब कुछ बदल चुका है .दादी और नानी भी पहले वाली नहीं रही .

    ReplyDelete
  2. सही बात है , बहुत कुछ परिवर्तन हो चुका है ....

    आधुनिकता की अंधी दौड़ में जंगल क्या आदमी की संवेदनशीलता भी बहुत घट चुकी है ...

    ReplyDelete
  3. नहीं रहीं पञ्चतंत्र की बातें
    न गोदी है न लोरी है
    पांच बरस में बस्ता भारी
    जाने कैसी मजबूरी है ?

    सच में बच्चों पर भी बढ़ता बोझ देख कर मन उदास हो जाता है ...!!
    बहुत अच्छा लिखा है ...!!

    ReplyDelete
  4. सच्चाई को आपने बड़े सुन्दरता से प्रस्तुत किया है! सही में पहले जैसा अब कुछ भी नहीं रहा सब कुछ बदल रहा है!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर कविता आज के हालातों को दर्शाती हुई, जीवन परिवर्तन का दूसरा नाम है !

    ReplyDelete
  6. बेहद खूबसूरत कविता
    उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  7. आधुनिकता की दौड़ में आदमी सब कुछ भूल रहा है

    ReplyDelete
  8. बच्चों की व्यथा को आपने बहुत खूबसूरती से शब्दों में उकेरा है.बधाई .

    ReplyDelete
  9. अब तो बच्चों का बचपन ही नहीं बचा...
    बहुत अच्छी रचना...

    ReplyDelete
  10. बहुत सच कहा है...आधुनिकता की दौड में आज बचपन खो गया है..

    ReplyDelete
  11. very true.... we are becoming insensitive and block-heads day by day.. Repercussions of modern times.

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर और प्रवाहमयी रचना!

    ReplyDelete
  13. अरे पॉच बरस तो बहुत कह दिया आपने। दो साल में ही यहॉ बस्ता भारी हो जाता है।

    ReplyDelete
  14. यही आज का सच है...

    ReplyDelete
  15. मुझे लग रहा कि कमेंट हो गया है..

    ReplyDelete
  16. such kaha hai apne ab sab kuch kaha pahle jaisa raha hai...

    ReplyDelete
  17. नहीं रहीं पञ्चतंत्र की बातें
    न गोदी है न लोरी है
    पांच बरस में बस्ता भारी
    जाने कैसी मजबूरी है ?

    यही का सच है...

    ReplyDelete
  18. इसे आधुनिकता का नशा कहते है !

    ReplyDelete
  19. Aah! sach hi to hai...panch baras me target bhi bhaari...bachche hain sapno ki savari....oh!

    ReplyDelete
  20. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!