प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

04 June 2011

ये राहें

 (1)
अक्सर उन राहों पर
कांटे देखा करता हूँ
जिन पर कभी फूल
बिछा करते थे

(2)
ये राहें
कभी
मखमली घास से ढकी 
पगडंडी होती हैं
कभी 
उधड़ी हुई सी
और कभी
कोलतार की
परतों में
ढकी
ये राहें
जीवन देती हैं
हर रूप में

पर सोचता हूँ
इन राहों की किस्मत
कितनी
अजीब होती है
एक जगह
स्थिर रह कर
ये राहें
प्राणवायु देती हैं
जीवन को
चलने को
आगे बढ़ने को

ये राहें
मौन रह कर भी
बोलती रहती हैं
इनकी भाषा
हम समझ नहीं सकते.

29 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. ये राहें
    मौन रह कर भी
    बोलती रहती हैं

    बिल्‍कुल सच कहा है ... ।

    ReplyDelete
  2. ये राहें
    मौन रह कर भी
    बोलती रहती हैं
    इनकी भाषा
    हम समझ नहीं सकते..... बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति् सुन्दर भाव…..….धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. मेरा एक प्रिय गाना है "एक रास्ता है जिंदगी" ... आपकी रचना पढते हुए उस गाने कि याद आ गयी ...

    ReplyDelete
  4. वाह आपने तो राहो को भी शब्द दे दिया।

    ReplyDelete
  5. वाह ... बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  6. ये राहें
    मौन रह कर भी
    बोलती रहती हैं
    इनकी भाषा
    हम समझ नहीं सकते.

    सच है ये राहें हम से बहुत कुछ कहती हैं लेकिन हम इन्हें समझने की कोशिश नहीं करते..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  7. राहे सिर्फ़ बुलाती है, कहती है, कि आओ बार-बार गुजरों यहां से हजारों बार,

    ReplyDelete
  8. बहुत ही उम्दा बात कही है अपने !मेरे ब्लॉग पर आए ! आपका दिन शुब हो !
    Download Latest Music + Lyrics
    Shayari Dil Se
    Download Latest Movies Hollywood+Bollywood

    ReplyDelete
  9. अक्सर उन राहों पर
    कांटे देखा करता हूँ
    जिन पर कभी फूल
    बिछा करते थे
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.बधाई.

    ReplyDelete
  10. राहों पर फूल भी हैं काँटे भी, राहें बुलाती हैं और बोलती भी ! सुंदर रचना के लिये बधाई!

    ReplyDelete
  11. ये राहें
    मौन रह कर भी
    बोलती रहती हैं
    इनकी भाषा
    हम समझ नहीं सकते.... bahut sahi kaha

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी लगी अभिव्यक्ति ....... शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  13. ये राहें
    मौन रह कर भी
    बोलती रहती हैं

    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  14. अति सुन्दर काव्य

    ReplyDelete
  15. ये राहें
    मौन रह कर भी
    बोलती रहती हैं

    वाह,बहुत सुन्दर
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब लिखा है आपने

    ReplyDelete
  17. गहन भावार्थ लिए अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  18. ये राहें
    मौन रह कर भी
    बोलती रहती हैं
    इनकी भाषा
    हम समझ नहीं सकते

    प्रभावित करती बेहतरीन पंक्तियाँ ....

    ReplyDelete
  19. ये राहें
    मौन रह कर भी
    बोलती रहती हैं

    उम्दा/बेहतरीन .

    ReplyDelete
  20. awesome lines ..
    well crafted !!

    ReplyDelete
  21. अच्छी प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  22. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  23. ये राहें हम से बहुत कुछ कहती हैं ......बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  24. बहूत हि सुंदर ,
    प्रभावशाली अभिव्यक्ती...

    ReplyDelete
  25. ये राहें
    मौन रह कर भी
    बोलती रहती हैं
    इनकी भाषा
    हम समझ नहीं सकते.

    bahut sundar rachnaayen

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!