प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

09 June 2011

तुम आसमां हो

तुम जैसा
बनने की कोशिश
करता हूँ
कभी कभी
तुम जैसा
उठने की कोशिश
करता हूँ कभी कभी

मैं तुम को
पाना चाहता हूँ
छूना चाहता हूँ
जितनी कोशिश करता हूँ
तुम और ऊंचे उठ जाते हो
हो जाते हो
मेरी पहुँच से
बहुत दूर

ताकते रह जाना है
तुम को
यूँ ही
हमेशा
क्योंकि -
मैं ज़मीं
और तुम आसमां हो .

33 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. मैं तुम को
    पाना चाहता हूँ
    छूना चाहता हूँ
    जितनी कोशिश करता हूँ
    तुम और ऊंचे उठ जाते हो
    हो जाते हो
    मेरी पहुँच से
    बहुत दूर
    बहुत भावपूर्ण कविता .बधाई.

    ReplyDelete
  2. ताकते रह जाना है
    तुम को
    यूँ ही
    हमेशा
    क्योंकि -
    मैं ज़मीं
    और तुम आसमां हो .
    सुंदर आशा से सजी अभिव्यक्ति ...!!
    sunder rachna ...!!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर ....
    मैं ज़मीं
    और तुम आसमां हो.... .
    कैसे होगा ये मिलन

    ReplyDelete
  4. मैं ज़मीं
    और तुम आसमां हो .बहुत खूब…… क्षितिज भी तो है… सुन्दर अभिव्यक्ति् धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब! सुन्दर भावपूर्ण रचना...दूर क्षितिज में ज़मीन और असमान के मिलने का भ्रम भी जीवन में कुछ क्षण सुकून के देने के लिये काफी है..

    ReplyDelete
  6. BAHUT HI SUNDER BHAVPOORAN RACHNA YASHWANT BHAI

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर भाव ! क्षितिज तो एक भ्रम है पर ऊँचा उठने की चाह हो तो आसमान कदमों तले बिछ जाता है ...

    ReplyDelete
  8. very beautifully showing the intricate desires of our lives.... some are achievable and few are just meant to be desires !!!

    ReplyDelete
  9. वाह ... बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

    ReplyDelete
  10. वाह...बहुत सुन्दर रचना...बधाई

    नीरज

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्‍दर रचना...बधाई

    ReplyDelete
  12. वाह। शानदार। पर आसमान और जमीन का भी मिलन होता है क्षितिज पर। आभार।

    ReplyDelete
  13. रचना अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  14. ताकते रह जाना है
    तुम को
    यूँ ही
    हमेशा
    क्योंकि -
    मैं ज़मीं
    और तुम आसमां हो .

    बहुत सुंदर पंक्तियाँ हैं .....

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर भाव, अच्छी रचना !
    पा लो खुद को तो सारा जहां मिल जाता है ...

    ReplyDelete
  16. भावों को खूबसूरती से सहेजा है ..

    ReplyDelete
  17. सार्थक अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर रचना,... उम्दा...आपके ब्लॉग में आना सार्थक हुवा...

    ReplyDelete
  19. आसमान और जमीन का भी मिलन होता है क्षितिज पर,
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  20. तब तो सिर्फ देखने के लायक ! बहुत गर्भित !

    ReplyDelete
  21. मैं तुम को
    पाना चाहता हूँ
    छूना चाहता हूँ
    जितनी कोशिश करता हूँ
    तुम और ऊंचे उठ जाते हो
    हो जाते हो
    मेरी पहुँच से
    बहुत दूर... bhut hi khubsurat ehsaaso ko vaykat kiya hai apne...

    ReplyDelete
  22. संगीत के साथ कविता पढने का सुखद अनुभव ........शुक्रिया.(मै अभी तक नहीं कर पाई हू फिर से सिखाना होगा )

    ReplyDelete
  23. achhi rachna hai bahut sunder....

    ReplyDelete
  24. प्यार की सुन्दर अभिव्यक्ति। बधाई।

    ReplyDelete
  25. खूबसूरत भावभूमि पर लिखी गयी एक बहुत ही कोमल रचना ! बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  26. सुन्दर अभिव्यक्ति।
    बधाई- विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  27. बहुत अच्छा अभिव्यक्त किया है ......जमीं और आस्मां क्षितिज पर मिल जाने का भरम तो दे ही जाते हैं ...... शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  28. बस ऊंचा उठने की चाह बनी रहे तो आसमान और जमीन का भी मिलन होता है क्षितिज पर......... सुन्दर भावाभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  29. बहुत खूब कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  30. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  31. खूबसूरत....... कोमल रचना

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!