प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

13 December 2012

सफर


फिर एक नया पड़ाव
फिर एक नया मोड़
एक नया रास्ता
फिर एक नया दौर
उसी पुराने सफर का
जिसका सिलसिला
चलता चला आ रहा है

तेज़ रफ्तार दौड़ती
वक़्त की इस बस मे बैठा
बस यही सोच रहा हूँ
भोथरी होती
कलम की नोंक की तरह 
बदलाव की आस लिये
यह जीवन भी
कभी देखेगा
अपना अंतिम दिन।

©यशवन्त माथुर©

16 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. बढ़िया प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  2. गहन प्रस्तुति....
    मगर कुछ नकारात्मक से भाव लगे...क्यूँ भई???

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  3. behtreen ..... ab soch kuch bhee soch leti hain aksar .

    ReplyDelete
  4. बहुत ही गहरी बात ! सच्ची अभिव्यक्ति !!

    ReplyDelete
  5. वक्‍त की बस...कभी तो थमेगी रफ़तार... सुंदर भाव

    ReplyDelete
  6. जब पुराने सफर में फिर से नया नया कुछ आ रहा है ...तो जीवन बदलाव की और ही तो है ...और अंतिम कभी कुछ नही होता ....फिर ....रात के आ जाने से दिन का अंत कहाँ होता है ....//
    गहनता लिए ....

    ReplyDelete
  7. safar ... bahut achchha laga yashvant ji . aise khyaal safar ke dauran hi aate hain .. jindagi kya hai , kaisi hai ... bahut sundar rachna.

    ReplyDelete
  8. जीवन एक सफ़र ही तो है, जो चलता रहता है, और चलते रहना ही जीवन है ... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. हृदयस्पर्शी भावपूर्ण प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  10. हर नया मोड़ एक आस लेकर आता है..भावपूर्ण प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी रचना है यशवंत जी .बधाई (बस में .....)

    ReplyDelete
  12. भावपूर्ण प्रस्तुति......

    ReplyDelete
  13. बहुत मर्मस्पर्शी...

    ReplyDelete
  14. कुछ नया दिखे ...यही कामना है ....

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!